Wednesday, February 21, 2024
HomeLatest Newsबोनसः प्लांट को चलाने वाले ठेका मजदूरों को ही भूल गया सेल...

बोनसः प्लांट को चलाने वाले ठेका मजदूरों को ही भूल गया सेल प्रबंधन

ठेका मजदूरों के लिए बोनस की मांग को लेकर जय झारखंड मजदूर समाज ने दिया धरना

बोकारो। बुधवार को जय झारखंड मजदूर समाज के बैनर तले यूनियन के महामंत्री बीके चौधरी की अध्यक्षता में ठेकेदार मजदूरों ने गांधी चौक पर एक दिवसीय धरना दिया। मौके पर बीके चौधरी ने कहा कि मजदूरों के बोनस के मुद्दे पर एनजेसीएस के नेता घड़ियालू आंसू बहा रहे है। वे सेल प्रबंधन के समक्ष उनकी बोनस के मुद्दे पर बात तक नहीं करते वहीं मजदूरों के बीच आकर उनको दिगभ्रमित करने के लिए प्रबंधन से ठेकेदार मजदूरों को 20 प्रतिशत बोनस का मांग कर रहे हैं। एनजेसीएस की दो बार के बैठक में एक बार भी इनके बोनस का मांग नहीं रखी गई। मजदूर भी समझ चूके हैं और इनके बहकावे में आने वाले नहीं है। उन्होंने कहा कि जय झारखंड मजदूर समाज अपना मांगपत्र 15 सितम्बर को ईडी संकार्य कार्यालय पर आक्रोश प्रदर्शन के माध्यम से कम से कम 8.33 प्रतिशत बोनस ठेकेदार मजदूरों का मांग यह कहते हुए किया है कि आज पलांट के उत्पादन में ठेकेदार मजदूरों का अहम भूमिका है। पूनः 12 अक्टूबर को नया मोड़ से इस्पात भवन तक जुलूस प्रदर्शन के माध्यम से डायरेक्टर इंचार्य को संदेश दिया गया था, लेकिन भाजपा नीत सरकार के अधीन चल रहे सेल प्रबंधन ने जय झारखंड मजदूर समाज की मांगो को अनदेखा करने का काम किया है। कहा कि खून पसीना बहाकर मजदूर टारगेट से ज्यादा उत्पादन कर रहे है फिर भी उनकी नोकरी कब प्रबंधन और ठेकेदार गठजोड़ के कारण चली जायगी कोई ठीक नहीं रहता है। मिनिमम वेज, ई एल, बोनस, पूरा हाजरी, सुरक्षा उपकरण इत्यादि के मांग करने पर इन्जीनियर इंचार्य से मिली भगत कर काम से निकालने का काम किया जाता है। मजबूर होकर बेरोजगारी के देश में अपनी रोजगार बचाने के लिए उन्हें बैंक से निकालकर वापस करने के लिए मजबूर होना पड़ता है ।आज के एक दिवसीय धरना के माध्यम से महामंत्री बि के चैधरी ने प्रबंधन को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर ठेकेदार मजदूरों का सारे समस्याओं का निराकरण नहीं किया गया तो वह दिन दूर नहीं जब ठेकाकर्मी चिमनी का धुआं बन्द करने के लिए मजबूर हो जाय। यूनियन आगे बढ़ प्रबंधन को घुटना टेकाने का काम करेगा। कार्यक्रम में उपस्थित जनता मजदूर सभा के महामंत्री साधु शरण गोप ने एन जे सी एस के नेताओं को सलाह देते हुए कहा कि 1973 से हीं मजदूरों को छलने का करते आये हैं अब समय आ गया है कि मजदूरों के मौलिक अधिकारों के रक्षा के लिए अगर प्रवंधन बात नहीं मानती है तो एन जे सी एस से इस्तीफा दे देना चाहिए और मजदूरों के बीच आकर आबाज बुलंद करना चाहिए ।साधु शरण गोप ने प्रबंधन को आरे हाथों लेते हुए कहा कि 2015और 2017 को लोकल युनियन द्वारा एतिहासिक हड़ताल को याद रखना चाहिए ।कार्यक्रम में उपस्थित झारखंड क्रान्तिकारी मजदूर युनियन के महामंत्री डी सी गोहाई ने कहा कि आज पलान्ट के उत्पादन में ठेकेदार मजदूरों का अहम भूमिका है। ठेकेदार मजदूरों के लिए एन जे सी एस के नेताओं द्वारा बोनस की मांग नहीं उठाना दुर्भाग्यपूर्ण एवं निन्दनीय है ।अभी भी समय है कि प्रबंधन के साथ नूरा कुस्ती बन्द कर मजदूरों के हितों की रक्षा करना चाहिए । कार्यक्रम में उपस्थित झामुमों बोकारो नगर अध्यक्ष मंटू यादव ने कहा कि अब समय आ गया है कि सभी अस्थायी मजदूर एक होकर प्लांट का चक्का जाम करेगे और अस्थायी मजदूर अपना हक और अधिकार लेकर रहेगा । तीनों युनियन नेताओं ने एक साथ कहा कि अभी भी समय है कि अस्थायी मजदूरों को कम से कम 8.33 बोनस या इन्सेंटिव रिवार्ड के रुप मे राशि दिया जाय। अगर ऐसा नहीं हुआ तो मजदूरों से सलाह मशविरा कर आगे का रूप रेखा बनाया जायेगा।
इस धरना कार्यक्रम में मुख्य रूप से एनके सिंह, आरबी चौधरी, संजय कुमार सिंह, झामुमो केन्दीय सदस्य हसन इमाम, अल्पसंख्यक जिला अध्यक्ष कलाम अंसारी, अभिमन्यु मांझी, आशिक अंसारी, रौशन कुमार, आईं अहमद, विजय कुमार साह, मोहन राम, राज कुमार, ओपी चौहान, देवे न्द्र गोराई, नाशिर अहमद खान, मंटू, प्रमोद, रामा शंकर, पिंटू मालाकार, श्री राम, बी पी मेहता,संजय , नारद, शिबू, माधो, अजय कुमार सिंह, विक्की, जान अली, बिनोद यादव, मघा कालिन्दी, कृष्णा कालिन्दी, अमित कुमार, बिनोद कालिन्दी ,शिवचरण रजक, सतेंदर कुमार, कृष्ण डोम, इम्तियाज, डी के पाठक, फलिंडर,भरत महतो,आनंद लायक,संजय रावत, पूरन चंद महतो , अनिल कुमार राय,दुखन मंझी, रंजीत कुमार,नेपाल चंद महतो, नरेश यादव, इत्यादि उपस्थित थे। यह जानकारी संगठन के कार्यालय मंत्री आरबी चौधरी ने दी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments