Thursday, February 22, 2024
HomeLatest Newsकार्तिक उरावं के योगदान को नहीं भूल सकता झारखंड

कार्तिक उरावं के योगदान को नहीं भूल सकता झारखंड

उज्ज्वल दुनिया /रांची ।  झारखंड प्रदेश प्रोफेशनल कांग्रेस कमिटी की बैठक आज 23 अक्टूबर को झारखंड प्रदेश प्रोफेशनल कांग्रेस अध्यक्ष आदित्य विक्रम जायसवाल जी की अध्यक्षता में संपन्न हुई। 

बैठक में वक्ताओं ने कहा कि कर्तिक उरांव ने वर्ष 1959 में ब्रिटिश सरकार को दुनिया का सबसे बड़ा आटोमेटिक पावर स्टेशन का प्रारूप ब्रिटिश सरकार को दिया था। बिरसा कृषि विश्वविद्यालय की स्थापना की थी साथ ही साथ वे पंडित जवाहर लाल नेहरू एवं श्रीमती इंदिरा गांधी के चहेते भी थे, जिन्होंने अपनी नौकरी छोड़कर राजनीति में प्रवेश किया। आदिवासी के जल, जंगल, जमीन की रक्षा की। आदिवासी विश्व परिषद का गठन किया। कार्तिक उरांव ने एक  और महत्वपूर्ण कार्य किया था जब 1980 में आदिवासियों एवं एससी समाज की संविधान में  आरक्षण की अवधि समाप्त हो रही थी तब कार्तिक उरांव ने इनके आरक्षण को बहाल रखने के लिए आवाज उठाई थी और इसके फलस्वरूप व्यवस्थाएं लागू भी रही। 
बैठक में प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव, जगदीश साहु, सलीम खान, जितेन्द्र त्रिवेदी, विभव नाथ शाहदेव, ख्याति मुंजाल, कोमल कृति, मनीषा, सुयश सिन्हा, अमरजीत सिंह, प्रेम चैरसिया, गौरव आनंद ,पुनीत कुमार आदि उपस्थित थे। 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments