Friday 14th \2024f June 2024 01:37:49 PM
HomeBreaking Newsमनाली

मनाली

​- ​निर्माण कार्य पूरा​, इसी माह यातायात के लिए खोल दिया जाएगा 
​- ​भागा नदी पर 360 मीटर लंबे ​इस ​पुल को ​बनाने में ​​10 साल लगे 
 ​ 

उज्ज्वल दुनिया /​नई दिल्ली, 08 अक्टूबर (हि.स.)।​ हिमाचल प्रदेश में सामरिक मनाली-लेह राजमार्ग पर सबसे लम्बे पुल का निर्माण कार्य पूरा हो गया है। इसे इसी महीने यातायात के लिए खोल दिया जाएगा। इसे बारसी ब्रिज के रूप में जाना जाता है​​।​ यह लद्दाख में दौलत बेग ओल्डी में दुनिया के सबसे ऊंचे लैंडिंग ग्राउंड के मार्ग पर श्योक नदी पर कर्नल चेवांग रिंचेन सेतु के बाद देश में अपनी तरह का दूसरा सबसे लंबा पुल है​​।

बीआरओ के सूत्रों ने बताया कि दारचा में ​​​​भागा नदी पर 360 मीटर लंबे ​इस ​पुल को ​बनाने में ​मुश्किल इलाकों, खराब मौसम के कारण लगभग 10 साल लग गए।​ ​​प्रशासनिक कारणों से पिछले कुछ समय से पुल पर काम भी स्थगित था। ​पुल का निर्माण कार्य सही मायने में लगभग चार साल पहले शुरू हुआ था और हाल ही में इसने गति पकड़ी थी। यह ​पूरा पुल ​स्टील​ का बनाया गया है, जिस​की सुपर संरचना स्टील बीम ​को जोड़कर बनाई गई है। ​पुल को सहारा देने के लिए पूरी लम्बाई में नदी के ​भीतर पांच जगह खंभे लगाये गए हैं। ​​इस पुल का निर्माण सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की 70 सड़क निर्माण कंपनी ​ने किया है। इसी यूनिट ने रोहतांग दर्रे के तहत अटल टनल के उत्तरी पोर्टल को जोड़ने वाले 100 मीटर के स्टील ट्रस ब्रिज का भी निर्माण किया था, जिसका उद्घाटन इसी महीने मनाली​-लेह हाइवे पर सिस्सू के पास केलांग में किया गया था​​।​

बीआरओ अधिकारियों के अनुसार​ ​​भागा ​​नदी चिनाब नदी की एक सहायक नदी है और सूरज ताल से निकलती है, जो बरलाचा दर्रे से कुछ किलोमीटर दक्षिण में है। ​​पहले ​नदी के तल पर बना हुआ एक ​छोटा सा पुराना पुल ​था, जो नदी के दो ​किनारों के बीच मौजूदा मार्ग का अधिकांश हिस्सा ​एक ​अनपेक्षित ट्रैक था​​।​​ बाढ़, चट्टान के खतरों या ​नदी में पानी बढ़ने पर विशेष रूप से बारिश के दौरान यातायात बाधित होता ​था। ​इस ​​​समस्या को दूर करने का एकमात्र तरीका नदी के ऊपर एक अच्छी तरह से एक स्थायी पुल का निर्माण करना था। ​यह इलाका ​लाहौल क्षेत्र में केलोंग से लगभग 33 किलोमीटर आगे दारचा लेह से 11,020 फीट की ऊंचाई पर है​​।​ यह हाइ​वे से कारगिल-वाया पदुम के लिए वैकल्पिक मार्ग​ ​और हिमाचल में इस मार्ग पर ​जाने का आखिरी स्थायी ​रास्ता है​​। 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments