Thursday 23rd \2024f May 2024 09:54:17 AM
HomeLatest Newsदल बल और बुलडोजर के साथ अतिक्रमण हटाने पहुंचे सीओ

दल बल और बुलडोजर के साथ अतिक्रमण हटाने पहुंचे सीओ

फुटकर दुकानदारों का विरोध और सड़क पर फुटकर दुकानदारों के साथ विधायक बैठे सड़क पर, बैरंग लौटे सीओ

बरही  : पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत बरही चौक के समीपवर्ती हजारीबाग रोड स्थित एनएच 33 का सर्विस रोड पर अतिक्रमण हटाने के लिए मंगलवार को बरही सीओ ब्रजेश कुमार श्रीवास्तव दल बल और बुलडोजर के साथ पहुंचे। मौके पर सीओ सर्विस रोड के किनारे स्थित फुटकर दुकानदारों को हटाना शुरू ही किया था कि इसका जमकर विरोध होना शुरू हुआ। बरही प्रखंड मुख्यालय गेट के पास स्थित स्वपोषित वित्त योजना के तहत अर्ध निर्मित दुकानों में किसी प्रकार दुकान चला रहे दुकानदार व फुटकर दुकानदारों ने विरोध किया। प्रशासन द्वारा अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई एवं इन फुटकर दुकानदारों का विरोध की सूचना मिलते ही बरही विधायक उमाशंकर अकेला स्थल पर पहुंचे। इन फुटकर दुकानदारों ने अपनी पीड़ा को विधायक के समक्ष रखते हुए बताया कि सीओ  उनके साथ अन्याय कर रहे हैं, सर्विस रोड को अतिक्रमण नहीं कर रहे हैं बल्कि सर्विस रोड को छोड़ कर अपनी दुकानों को संचालित कर अपना पेट पालते हैं। इसलिए अतिक्रमण हटाने के नाम पर उन्हें परेशान नहीं किया जाए। विधायक ने मौके पर मौजूद सीओ से वार्ता किया कहा कि इस संबंध में वे  फुटकर दुकानदारों के साथ बैठक करेंगे एवं वरीय पदाधिकारियों से बात करेंगे फिलहाल अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई को स्थगित करने को कहा। किंतु सीओ अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई को जारी रखा। उसके बाद विधायक फुटकर दुकानदारों के साथ करीब आधा घंटा तक सर्विस रोड पर धरना पर बैठ गए। उसके बाद सीओ करवाई को स्थगित कर बैरंग लौट गए। उसके बाद विधायक संपूर्ण सर्विस रोड का पैदल निरीक्षण किया। विधायक ने कहा कि फुटकर दुकानदारों की मांग जायज है किसी को भी बेरोजगार नहीं होने दिया जाएगा।

विधायक फुटकर दुकानदारों साथ किया बैठक

बरही (हजारीबाग) : बरही पूर्वी पंचायत भवन के सभागार में मंगलवार संध्या समय हजारीबाग रोड के फुटकर दुकानदारों के साथ बरही विधायक उमाशंकर अकेला ने बैठक किया। मौके पर मौजूद दुकानदारों ने अपनी समस्याओं को बिंदुवार रखा रखा। दुकानदारों ने बताया कि वे लोग सर्विस रोड का अतिक्रमण नहीं करते हैं बल्कि उसके बगल में छोटे-छोटे दुकान लगाकर जीविकोपार्जन कर रहे हैं। मछली दुकानदारों ने भी अपनी पीड़ा रखते हुए कहा कि अगर उन्हें पीएचइडी गली में मछली दुकान लगाने की व्यवस्था प्रशासन द्वारा किया जाएगा तो वे लोग वहां दुकान लगाएंगे। उपस्थित फुटकर दुकानदारों ने कहा कि प्रशासन हमारी समस्या को नहीं सुनती है किंतु प्रशासन द्वारा उन्हें परेशान किया जा रहा है। विधायक ने कहा कि किसी को भी अतिक्रमण हटाने के नाम पर रोजगार से वंचित नहीं होने दिया जाएगा। वे अति शीघ्र ही डीसी एवं सरकार के मुख्य सचिव से बात करेंगे। फिलहाल किसी के भी दुकान पर अतिक्रमण के नाम पर  बुलडोजर नहीं चलने देंगे। बैठक की अध्यक्षता फुटकर दुकानदार सुनील कुमार चन्द्रवंशी व संचालन बरही व्यापार मंडल के अध्यक्ष अशोक सिंह ने किया बैठक में विनोद यादव, उप प्रमुख सिकंदर राणा, बरही व्यवसाई संघ के अध्यक्ष कपिल केशरी, बरही व्यापार मंडल के अध्यक्ष अशोक सिंह, प्रमुख प्रतिनिधि देवनंदन यादव, अब्दुल मनान वारसी, सुनील चंद्रवंशी, मोती सिंह ,अर्जुन प्रजापति, जीतू ठाकुर, बासुदेव यादव, आशीष केशरी, नरेस सिंह, अनिल केशरी,  मासूम अली,  राजेश केशरी, मनोज कुमार, संतोष गुप्ता, धीरज कुमार, मंटू कुमार, संतोष निषाद, सुरेंद्र निषाद, अफसर खान, मो शहजादा, अमरनाथ साहू, नरेश प्रसाद, विशेश्वर मिस्त्री, इन्द्रदेव प्रसाद केशरी, विकास कुमार, बिनोद केशरी, संतोष सहित कई फुटकर दुकानदार मौजूद थे।

रोजगार के नाम पर ठगा महसूस कर रहे लोग…..

दुकान के नाम पर 2005 में रोजगार के नए अवसर को लेकर प्रखंड स्तर पर गठित समिति की देख रेख में स्ववित्त पोषित योजनान्तर्गत आवेदन लिया गया। इसमें आवेदन शुल्क 2500 से 50000 रुपये देने थे। इसमें कार्य प्रराम्भ में 10,000 रुपए और धीरे-धीरे पूरी किस्त जमा करना था। इसमें  अशोक सिंह को संवेदक बनाया गया था। अशोक सिंह प्लिंथ लेवल बनाकर सारा काम छोड़ दिया और पगड़ी लेनेवालों को पैसे भी नहीं लौटाए। उसके बाद जिस पब्लिक को मन किया अपना शटर लगा कर दुकान में घुस गया। इसमें 40 प्रतिशत वे लोग थे जिसने आवेदन किया था और 60 प्रतिशत बिना आवेदन वाले। अगर मामले की निष्पत्क्षता से जांच हो, तो इसका पर्दाफाश हो जाने की बात कही जा रही है। इसमें ऐसे भी लोग हैं, जिन्होंने पांच-पांच दुकानों को अपने कब्जे में रखा है या तो वह गोदाम बनाये हुए है या फिर भाड़े पर दिए हुए है। परंतु जो लोग आवेदन देकर अभी तक दुकान नहीं ले पाए हैं, उन्हें न दुकान मिल रहा है न ही पैसा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments