जन्माष्टमी पर सूने पड़े मंदिर, पहली बार बिना श्रद्धालुओं के मनेगा कृष्ण जन्मोत्सव

भोपाल । मध्यप्रदेश में बुधवार को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी उत्साह के साथ मनाई जा रही है। सुबह से ही लोग पूजा-पाठ में जुटे हुए हैं, लेकिन कोरोना के चलते मंदिर सूने पड़े हुए हैं। कोरोना संक्रमण के चलते लोग कृष्ण जन्मोत्सव अपने-अपने घरों में मना रहे हैं। ऐसा पहली बार हो रहा है, जब मंदिरों में लोगों की भीड़ नहीं उमड़ी। वहीं, रात में भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव भी मंदिरों में सीमित संख्या में लोगों की उपस्थिति में मनाया जाएगा। अधिकांश मंदिरों में कृष्ण जन्मोत्सव का सोशल मीडिया पर लाइव प्रसारण होगा और श्रद्धालु घर पर ही रहकर भगवान के ऑनलाइन दर्शन करेंगे।

राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के सभी बड़े शहरों में जन्माष्टमी की पूर्व संध्या पर बाजारों में भीड़ दिखाई दी। लोगों ने भगवान श्रीकृष्ण की प्रतिमाएं, मोरपंख व बांसुरी, मुकुट, वस्त्रों व पूजन सामग्री की खरीदी की। वहीं, बुधवार को सुबह अपने-अपने घरों में लोगों ने शासन की गाइडलाइन के नियमों का पालन करते हुए भगवान का पूजन-अर्चन किया। श्रद्धालुओं ने इस कोरोना के चलते मंदिरों से दूरी बनाई, जिसके चलते मंदिर सूने पड़े रहे। केवल पुजारियों और मंदिर के कर्मचारियों ने ही सुबह भगवान की पूजा-आरती की। वहीं, रात में भी मंदिरों में भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव सामाजिक दूरी का पालन करते हुए मनाया जाएगा। सीमित संख्या में पुजारी व पंडित ही भगवान का अभिषेक और पूजन करेंगे। रात 12 बजे जन्मोत्सव आरती होगी। इसके साथ जयकारों व बधाई गीत गूंजने लगेंगे और माखन-मिश्री व पंजीरी का प्रसाद वितरित किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: