आखिर कार लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री जिस प्लॉट पर संचालित है वह वनभूमि जमीन का कागजात अंचल मे जमा कर दिया है ।

बंदोबस्त की गयी जमीन को खरीदने और बेंचने का अधिकार किसी को नहीं है।
धुव्र सोंथालिया ने किस आधार पर बंदोबस्त प्लॉट का केवाला खरीद कि है यह जांच का विषय है।

गिरिडीह /अमित सहाय । गिरिडीह जिले के सदर अंंचल के मौजा हरसिंगरायडीह के खाता नंबर 12 प्लॉट नंबर 1023 रकबा 30 एकड़ के मध्ये 5 एकड़ सरकारी जमीन पर अवैध कब्जा कर लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री का संचालन करने हेतु फैक्ट्री के अलावे आरएन सिंह और महादेव साव से स्पष्टीकरण का मांग अंचल अधिकारी गिरिडीह ने किया था । सरकारी प्लॉटों पर अवैध कब्जा कर फैक्ट्री चलाने का निरीक्षण एसडीएम प्रेरणा दीक्षित गिरिडीह व अंचल अधिकारी रविन्द्र कुमार सिन्हा ने संयुक्त रूप से किया था। अंचल अधिकारी गिरिडीह ने फैैैैक्टरी प्रबंधन से जमीन संबंधित कागजात जमा करने के लिए 31जुलाई का समय दिया वही दूसरी तारीख 4 अगस्त को दिया । मंंगलवार को लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री प्रबंधन समेत तीनों फैक्ट्री मालिकों ने भू-स्वामित्व से जुड़े सारे दस्तावेज अंचल कार्यालय को उपलब्ध कराया । अंचल अधिकारी के अनुसार तीनों के द्वारा दिये गये दस्तावेज में केवाला, म्यूटेशन, रसीद 2020-21 का अपटूडेट है। उन्होंने बताया कि भू-स्वामित्व के दस्तावेज के सौंपने से पहले तीनों ने अचंल कार्यालय से ही भारतीय वन संरक्षण अधिनियम के तहत कुछ सूचनाएं मांगी थीं अंचल अधिकारी रवीन्द्र सिन्हा ने कहा कि अब उपलब्ध कराये गये दस्तावेज की जांच की जायेगी।जिससे पता लगाया जा सकेगा कि तीनों कंपनियों ने जो दस्तावेज दिये हैं, वे कितने सही हैं। हालांकि, सीओ ने यह भी कहा कि तीनों कंपनियों ने जो दस्तावेज सौंपे हैं, उसकी जांच कर आगे की कार्यवाही की जायेगी।

विदित हो कि गिरिडीह जिले के उद्योगिक टफकॉन टीएमटी फैक्ट्री की कम्पनी लंगटा बाबा स्टील का निरीक्षण सदर एसडीएम प्रेरणा दीक्षित के द्वारा किया गया। मंगलवार को एसडीएम गिरिडीह व अंचल अधिकारी संयुक्त रूप से सरकारी प्लॉटों पर अवैध कब्जा कर फैक्ट्री चलाने का निरीक्षण किया ।निरीक्षण के क्रम में एसडीएम ने भी देखा कि लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री को लेकर जो शिकायत है वह सही है। 1911 के खातियान के अनुसार लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री जिस प्लॉट पर संचालित है वह एक किस्म का वनभूमि जीएम लैंड पाया गया। उसे समतल कर फैक्ट्री मालिक मोहन साव रैयती प्लॉट का स्वरूप देकर फैक्ट्री का संचालन कर रहे है। अंचल अधिकारी ने बताया कि मौजा हरसिंगरायडीह के थाना नंबर 281 के खाता नंबर 12 प्लॉट नंबर 1023 में रकबा 30 एकड़ के मध्ये पांच एकड़ जमीन पर कब्जा कर लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री का संचालन किया जा रहा है।

पार्षद के शिकायत पर एसडीएम ने फैक्ट्री मालिक को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण देने का निर्देश दिया।

जॉच के दौरान एसडीएम ने औद्योगिक इलाका राउतगादी मे उस सरकारी प्लॉट को देखा जिस पर अवैध कब्जा का प्रयास शहर के रियल स्टेट कारोबारी धुव्र सोंथालिया द्वारा किया जा रहा था। साल 1969 में सरकार द्वारा स्थानीय ग्रामीणों को बंदोबस्त की गयी जमीन थी । ग्रामीणों ने एसडीएम को जाानकारी दिया कि सरकार द्वारा ग्रामीणों को बंदोबस्त किया गया था। बंदोबस्त प्लॉट को भी कब्जे का प्रयास किया जा रहा है।

सीओ ने बताया कि बंदोबस्त की गयी जमीन को खरीदने और बेंचने का अधिकार किसी को नहीं है। लेकिन सोंथालिया ने किस आधार पर बंदोबस्त प्लॉट का केवाला खरीद कि है यह जांच का विषय है। अंंचल अधिकारी ने कहा कि धुव्र सोंथालिया को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण पुुुछा जाएगा ।

पार्षद के लगाये आरोपों को सदर एसडीएम प्रेरणा दीक्षित के साथ किये गये शुरुआती जांच में सही पाया गया है. इसलिए यह देखना जरूरी होगा कि आखिर खाता नंबर-12 के प्लॉट नंबर-1023 जब जंगल किस्म का प्लॉट है, तो फिर किस परिस्थति में और किस वष वाणिज्य कार्य करने के लिए लंगटा बाबा स्टील फैक्ट्री समेत तीनों कंपनियों को प्लॉट दिये गये थे. यही नहीं अगर तीनों के पास वन विभाग की एनओसी भी है, तो वह किस स्तर पर तीनों को निर्गत किया गया है. यह भी जांचना जरूरी होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: