दिल्ली में लालूजी को बनाया बंधक, पटना आने से रोकने के लिए गेट में रस्सा बांधकर रखते हैं- तेज प्रताप

जो लोग आरजेडी को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं, उनकी सारी बात की रिकॉर्डिंग मेरे पास है- तेज प्रताप यादव
जो लोग आरजेडी को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं, उनकी सारी बात की रिकॉर्डिंग मेरे पास है- तेज प्रताप यादव

पटना । लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने आरोप लगाया है कि उनके पिता को दिल्ली में बंधक बनाकर रखा गया है। जेल से निकले लालूजी को एक साल होने को है, लेकिन उन्हें पटना नहीं आने दिया जा रहा है। तेज प्रताप यादव का दावा है कि पटना आने से रोकने के लिए दिल्ली में गेट पर मोटा रस्सा बांधकर रखा जाता है। तेज प्रताप यादव पटना में छात्र जनशक्ति परिषद द्वारा “राजनीति सीखो, नेतृत्व करो” विषय पर आयोजित कार्यशाला के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे।

‘गेट में रस्सा बांधकर लालू को दिल्ली में रोका गया’
तेजप्रताप यादव ने कहा कि मैंने पिताजी से पटना में हमारे साथ रहने को कहा था, लेकिन 4-5 लोगों ने गेट में रस्सा बंधवाया है ताकि वो जनता से दूर रहे हैं । तेज प्रताप ने यह भी कहा कि 4-5 लोग पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनना चाहते हैं, इसलिए वो तमाम तरह के हथकंडे अपना रहे हैं ।

पार्टी को तोड़ने की साजिश रचने वाले नेताओं की रिकॉर्डिंग मेरे पास

तेज प्रताप यादव ने कहा कि राजद को कौन तोड़ना चाहता है, लालू परिवार में कौन फूट डाल रहा है, इन सारी बातों की ऑडियो रिकॉर्डिंग मेरे पास है। तेज प्रताप यादव ने दावा किया कि समय आने पर सारे ऑडियो और वीडियो सबूत मीडिया के सामने रखेंगे। तेज प्रताप यादव ने कहा कि कुछ लोग पीठ पीछे कहते हैं कि मैं लालू यादव का बेटा ही नहीं हूं। उनकी सारी बात की रिकॉर्डिंग उनके पास है। उन्होंने कहा, ‘मैं किसका बेटा हूं ये किसी को बताने की जरूरत नहीं है.’

आरजेडी के अंदर ही कुछ लोग लालू-तेजस्वी को देते हैं गाली

तेज प्रताप यादव ने कहा कि यहां कुछ लोग हैं जो लालू यादव, हमको और तेजस्वी यादव को गाली देते हैं ।  इस दौरान तेजप्रताप ने खुलासा किया कि लालू यादव के निर्देश पर ही उन्होंने ‘बांसुरी’ सिंबल लिया है । उन्होंने ऐलान किया कि जल्द ही छात्र जनशक्ति परिषद के बैनर के साथ ‘एल पी मूवमेंट’ चलाएंगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com