बाबुलाल गयो…. सुनने के बाद भी स्पीकर के न्यायाधिकरण ने क्यों नहीं की कार्रवाई : प्रतुल शाहदेव

स्पीकर न्यायाधिकरण का फैसला आने से पहले ही सत्तापक्ष ने सुना दिया फैसला: प्रतुल
स्पीकर न्यायाधिकरण का फैसला आने से पहले ही सत्तापक्ष ने सुना दिया फैसला: प्रतुल

भाजपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित प्रेस वार्ता में वादी राजकुमार यादव के वीडियो को जारी करते हुए प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने कहा कि
सत्तापक्ष ने ठान लिया है कि ऐन-केन प्रकारेण बाबूलाल की सदस्यता लेंगे ही।

प्रतुल शाहदेव ने कहा कि मुख्यमंत्री ने 17 जुलाई 2020 को प्रोजेक्ट भवन में पत्रकारों से बात करते हुए कहा था कि भाजपा विपक्ष के नेता के पद के लिए तरस जाएगी। उस समय भी मामला स्पीकर के न्यायाधिकरण में लंबित था और ऐसा लगा कि मुख्यमंत्री स्पीकर के न्यायाधिकरण पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहे है ।

उन्होंने कहा कि स्पीकर के न्यायाधिकरण ने मामले पर स्वतः संज्ञान लेकर कार्रवाई शुरू कर दी, जिसे माननीय उच्च न्यायालय ने बाद में रोक दिया। फिर आनन-फानन में समय सीमा खत्म होने के बाद सत्ता पक्ष के कुछ विधायकों से भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी के खिलाफ याचिका न्यायाधिकरण में दाखिल की गई।

प्रतुल शाहदेव ने कहा कि 17 मई 2022 को स्पीकर के न्यायाधिकरण में मामले की सुनवाई के दौरान पिटीशनर राजकुमार यादव यह कहते हुए दिख रहे हैं कि….बाबूलाल गयो, जजमेंट हो गयो

प्रतुल शाहदेव ने कहा कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि मुद्दई भी वही और अदालत भी वही। जजमेंट आने से पहले ही वादी को पता है कि जजमेंट क्या आने वाला है। यह घटना स्पीकर के न्यायाधिकरण के सुनवाई के दौरान घटित हुआ जिसे झारखण्ड विधानसभा टीवी ने भी प्रसारित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.