आदिवासी समाज भारतीय संस्कृति का ध्वजवाहक: अर्जुन मुंडा 

नई दिल्ली। नई दिल्ली स्थित अम्बेडकर इंटरनेशनल सेंटर में भाजपा संसदीय दल की बैठक में जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा के नेतृत्व में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अभिनंदन किया गया। अर्जुन मुंडा ने कहा कि 15 नवंबर को भगवान बिरसा मुंडा जी की जयंती को जनजातीय गौरव दिवस घोषित करने के निर्णय से जनजाति समाज गौरवान्वित महसूस कर रहा है। इस अवसर पर भाजपा के सभी जनजातीय सांसद उपस्थित थे।

केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने माला पहनाकर प्रधानमंत्री मोदी का अभिनन्दन किया
केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने माला पहनाकर प्रधानमंत्री मोदी का अभिनन्दन किया
 केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा कि ये हम सभी के लिए गर्व का विषय है| प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में आज हम निरंतर राष्ट्र निर्माण की ओर अग्रसर हो रहे हैं। आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में जनजातीय क्रांतिकारियों के योगदान को याद करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने भगवान बिरसा मुंडा के जन्मदिवस (15 नवम्बर)  पर “जनजातीय गौरव दिवस” के रूप में मनाने का निर्णय कैबिनेट में लिया।सरकार के इस अभूतपूर्व निर्णय से जनजाति गौरव दिवस के रूप में जनजातीय समाज को अपने गौरवमयी संघर्षमयी इतिहास का सम्मान मिला है|
अर्जुन मुंडा ने कहा कि जनजातीय समाज भारतीय संस्कृति का  ध्वजवाहक है| जिन जनजातीय समुदायों के जननायकों ने स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों के अन्याय व अत्याचार के विरुद्ध संग्राम का बिगुल फुंककर अपने प्राण भारत माता के चरणों में अर्पित किये, आज उन्हीं जनजातियों के विकास और कल्याण की दिशा में पीएम नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में किये जा रहे चहुंमुखी प्रयास उनके अमर बलिदानों को राष्ट्र की सच्ची श्रद्धांजलि है|
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का स्वागत करते समीर उरावं
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का स्वागत करते समीर उरावं
अर्जुन मुंडा ने कहा कि मुझे याद है कि 24 अक्तूबर, 2021 को मन की बात में प्रधानमंत्री ने भगवान बिरसा मुंडा के सम्बन्ध में कहा था-
भगवान बिरसा मुंडा ने जिस तरह अपनी संस्कृति, अपने जंगल, अपनी जमीन की रक्षा के लिए संघर्ष किया| वो धरती आबा ही कर सकते थे| उन्होंने हमें अपनी संस्कृति और जड़ों के प्रति गर्व करना सिखाया और इसी क्रम में उन्हें सम्मान देते हुए प्रधानमंत्री ने 15 नवम्बर को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में घोषित कर दिया, जो बहादुर आदिवासी स्वतंत्रता सेनानियों की स्मृति को समर्पित है ताकि आने वाली पीढ़ियां देश के लिए उनके बलिदानों के बारे में जान सकें। यह तारीख भगवान बिरसा मुंडा की जयंती है, जिन्हें देश भर के आदिवासी समुदायों द्वारा भगवान के रूप में सम्मानित किया जाता है।
सम्पूर्ण भारत का आदिवासी जनजाति समाज भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का सम्मान करता है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *