10 लाख के ईनामी माओवादी कंचन तुरी की हार्ट अटैक से मौत

जून 2016 में औरंगाबाद के गोह में कोबरा टीम पर हमले में शामिल था कंचन तुरी
जून 2016 में औरंगाबाद के गोह में कोबरा टीम पर हमले में शामिल था कंचन तुरी

उज्ज्वल दुनिया संवाददाता/ अजय निराला

हजारीबाग। माओवादियों के मध्य जोन के टॉप कमांडरों में से एक कंचन तुरी उर्फ रहिमन तुरी की मौत हो गई है। माओवादियों जोनल कमांडर कंचन तुरी पर सरकार ने 10 लाख रुपए का इनाम घोषित किया हुआ था।

कई नक्सल हमले का था आरोपी 

कंचन तुरी की मौत माओवादियों के मध्य जोन का मुख्यालय छकरबंधा के इलाके में हुई है। कंचन तुरी की मौत हार्ट अटैक आने से हुई। वह काफी लंबे वक्त से बीमार था। वह पलामू के मनातू थाना क्षेत्र के डुमरी के इलाके का रहने वाला था। छकरबंधा से परिजन चकरबंधा के इलाके में रवाना हो गए हैं। पलामू पुलिस भी मनातू और गया सीमा पर नजर बनाए हुए हैं।

कंचन तुरी कई नक्सल हमले का आरोपी रहा है। वह बिहार और झारखंड में तीन दर्जन से भी अधिक बड़े नक्सल हमले का आरोपी है। तीन वर्ष पहले पलामू पुलिस ने यूएपीए के तहत कंचन तुरी की लाखों की संपत्ति को जब्त किया था। उसके पास मनातू और मेदिनीनगर टाउन थाना क्षेत्र में कई जमीन के प्लॉट थे।झारखंड-बिहार की पुलिस माओवादी कंचन तुरी को काफी दिनों से तलाश कर रही थी।

जून 2016 में बिहार के गया और औरंगाबाद सीमा पर कोबरा की टीम पर हमला हुआ था। हमले में कोबरा के 10 जवान शहीद हुए थे। जिस हमले में जवान शहीद हुए थे, उसका नेतृत्व कंचन तुरी ने किया था। पलामू छतरपुर, नौडीहा बाजार, हरिहरगंज, मनातू, पांकी के इलाके में कई नक्सल हमले हुए हैं, जिसका मुख्य आरोपी कंचन तुरी रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *