खूंटी में करौली की तरह दंगा फैलाने की थी साजिश, छतों पर जमा किए गए थे ईट और पत्थर

खुफिया विभाग पर उठे सवाल, क्या पहले से थी हिंसा की रिपोर्ट
खुफिया विभाग पर उठे सवाल, क्या पहले से थी हिंसा की रिपोर्ट

 

खूंटी में पहले से जमाकर रखी गई थी पत्थर और ईट

राजस्थान के करौली जैसी हिंसा फैलाने की थी साजिश

खूंटी/ रांची। खूंटी में मंगलवारी जुलूस पर समुदाय विशेष के लोगों द्वारा पथराव के बाद उत्पन्न तनाव जारी है। बुधवार की सुबह भट्टी रोड व शिवाजी चौक के पास फिर से पथराव की घटना घटी। इस दौरान करीब एक घंटा तक शिवाजी चौक रणक्षेत्र बना रहा। दोनों ओर से रूक-रूककर पथराव होता रहा। इसके बाद पूरे क्षेत्र में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। धारा 144 लागू कर दिया गया है। घटना की जानकारी मिलते ही जिला पुलिस अधीक्षक आशुतोष शेखर, एसपी अभियान रमेश कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी सैयद रियाज अहमद, मुख्यालय डीएसपी, एसडीपीओ, अंचल अधिकारी मधुश्री मिश्रा, नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी रवि प्रकाश, खूंटी, मुरहू व मारंगहादा थाना प्रभारी समेत कई अधिकारी मौके पर पहुंचे हैं। चारों ओर लाउडस्पीकर से सभी को अपने-अपने घर लौट जाने और भीड़ ना लगाने की अपील की जा रही है। बुधवार को सुबह से ही जिला मुख्यालय का माहौल बिगड़ा हुआ है।

मुरादाबाद, करौली और अब खूंटी, हिंसा का पैटर्न एक समान

दिल्ली के दंगो से लेकर मुरादाबाद, करौली और अब खूंटी। हिंसा का पैटर्न एक समान है । पहले से घरों की छतों पर पत्थर और ईट जमा कर रखी जाती है । अचानक जुलूस पर छतों से पत्थरबाजी होती है ।

बीती रात श्रीरामनवमी महोत्सव के तहत अपने परंपरागत मार्ग आजाद रोड से गुजर रहे मंगलवारी जुलूस पर समुदाय विशेष के लोगों द्वारा पथराव करने की घटना घटी थी। इसके बाद देर रात तक जिला मुख्यालय में तनाव की स्थिति व्याप्त हो गई थी। घटना से आक्रोशित अखाड़ा समिति के सदस्यों ने आजाद रोड के मुहाने पर पत्थरबाजी करने वाले असमाजिक तत्वों को अविलंब गिरफ्तार करने की मांग पर मुख्य पथ पर जमा हो गए। इसके बाद पुलिस-प्रशासन ने दिन के 12 बजे तक दोषियों को गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया। इसके बाद सभी अखाड़ा समिति के सदस्य यह कहते हुए माने कि गिरफ्तारी होने तक जिला मुख्यालय का बाजार बंद रहेगा। इसी के तहत बुधवार की सुबह बड़ी संख्या में विभिन्न अखाड़ा के सदस्य और हिंदू संगठनों के सदस्य सड़क पर उतर कर दुकान बंद कराने लगे। इस दौरान लोग जुलूस की शक्ल में भगत सिंह चौक से नेताजी चौक होते हुए कर्रा रोड शिवाजी चौक से भट्टी रोड की ओर गए। भट्टी रोड से जुलूस जैसे ही गुजर रहा था। सड़क किनारे घरों के छत पर पहले से तैनात लोगों ने जुलूस पर पथराव शुरू कर दिया। इसके बाद जुलूस में भगदड़ मच गया। बताया जा रहा है कि छतों पर महिला, पुरुष, बच्चे व बुजुर्ग सभी पहले से पत्थर लिए तैनात थे। इसके बाद जुलूस में शामिल लोग जान बचाकर शिवाजी चौक पहुंचे। यहां भी पथराव होने लगा। इसके बाद दोनों ओर से करीब एक घंटे तक पथराव होता रहा। इस दौरान जुलूस के साथ चल रहे खूंटी थाना प्रभारी अतिरिक्त पुलिस बल की मांग करते रहे। पुलिस बल के पहुंचने के बाद हल्का बल प्रयोग करते हुए भीड़ को तितर-बितर किया गया। फिलहाल जिला मुख्यालय के विभिन्न स्थानों में पुलिस बल की तैनाती कर दिया गया है।

तोरपा तक पहुंची चिंगारी

मंगलवारी जुलूस पर समुदाय विशेष के लोगों द्वारा किए गए पथराव के विरोध में बुधवार को जिला मुख्यालय की खूंटी की दुकान बंद है। विभिन्न अखाड़ा के संचालक व सदस्यों के अलावा हिंदू संगठनों ने पत्थरबाजी करने वाजे समाज में सुख-चैन और शांति के विरोधियों को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे हैं। सुबह से ही बड़ी संख्या में लोग सड़क पर उतर कर बंद का आहवान किया था। वैसे बाजार बंद रखने का निर्णय मंगलवार की रात को ही लिया गया था। खूंटी में पथराव की घंटना का असर अब तोरपा में भी देखने को मिल रहा है। तोरपा के विभिन्न अखाड़ा संचालक व हिंदू संगठन के सदस्यों ने बाजार बंद करने क अपील के साथ सुबह जुलूस निकाला। लोगों की मांग थी कि मंगलवारी जुलूस पर पथराव करने वाले असामाजिक तत्वों की अविलंब गिरफ्तारी हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published.