राज्य में अराजक स्थिति,आम और खास कोई सुरक्षित नही: दीपक प्रकाश

रांची।  राज्य में प्रशासनिक तंत्र पूरी तरह विफल हो चुका है। राज्य में न आम आदमी सुरक्षित है न खास, यह बात भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवम सांसद दीपक प्रकाश ने राज्य सरकार पर कड़ा हमला बोलते हुए कहा। श्री प्रकाश भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवम कोडरमा के पूर्व सांसद रविन्द्र कुमार राय पर रांची धनबाद के रास्ते पर तेलमच्चो में हुए हमले के बाद प्रतिक्रिया दे रहे थे।

दीपक प्रकाश ने घटना की तीव्र निंदा करते हुए कहा कि राज्य की विधि व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है। जिस प्रकार से अपराधियों,उग्रवादियों,अराजक तत्वों का मनोबल सिर चढ़कर बोल रहा है,उससे अब घर बाहर कही भी कोई सुरक्षित नही है।

उन्होंने कहा कि इस सरकार की नीयत ही अपराध नियंत्रण की नही है। यह सरकार अपराधियों पर नियंत्रण के बजाय आम आदमी को परेशान करने में विश्वास रखती है।

उन्होंने कहा कि राज्य की राजधानी से में दिन दहाड़े अपराधियों का तांडव होता है,पूरे प्रदेश में उग्रवादी हमले हो रहे,अपराधी लोगों का भयादोहन कर रहे हैं,जेल में अपराधियों की पार्टी हो रही हो , गलत कार्यों का विरोध करने पर जिंदा जला दिया जाता हो,बहन ,बेटियों की इज्जत आबरू सुरक्षित नही हो ,ऐसे में लोगों का प्रशासन से विश्वास उठ चुका है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार शीघ्र अपराधियों और अराजक तत्वों पर नियंत्रण करे नही तो भारतीय जनता पार्टी सड़क पर उतरकर आन्दोलनं के लिये बाध्य होगी।

भाजपा नेताओं ,कार्यकर्ताओं को किया जा रहा टारगेट: बाबूलाल मरांडी

भाजपा नेता विधायकदल एवम पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने डॉ रविन्द्र राय की गाड़ी पर हुए हमले की कड़ी भर्त्सना करते हुए कहा कि राज्य में जबसे श्री हेमंत सोरेन की सरकार बनी है तब से लगातार अपराधियों,उग्रवादियों और अराजक तत्वों के द्वारा भाजपा कार्यकर्ता ,नेता को निशाने पर लिया जा रहा है। पिछले दिनों पूर्व विधायक गुरुचरण नायक भी उग्रवादियों से बाल बाल बचे,उनके दो अंगरक्षकों को जान गंवानी पड़ी। इसके पूर्व भी राज्य के विभिन्न जिलों में सैकड़ों भाजपा कार्यकर्ता की हत्या पिछले दो वर्षों में हो चुकी है।

उन्होंने कहा कि आज भी जिसप्रकार रविन्द्र कुमार राय जी के साथ अराजक तत्वों के द्वारा दुर्व्यवहार किया गया ,उसका लोकतंत्र में कोई स्थान नही है।

बाबूलाल मरांडी ने कहा कि श्री राय के ऊपर जिसप्रकार से हमले हुए,घेरकर जिसप्रकार से गाड़ी के शीशे तोडे गए,झंडा और बोर्ड को तोड़ा गया ,इसमे सरकार के इशारे पर सुनियोजित षड्यंत्र से इनकार नही किया जा सकता।
उन्होंने कहा कि एक तरफ पर प्रशासन श्री राय को धनबाद जाने की इजाजत देता है। न कोई बंदी कॉल थी,न कोई जाम था और ऐसे में उनके ऊपर अचानक हमला बोलना प्रशासनिक विफलता को ही दर्शाता है। कहा कि लगता है हमलावर की ताकत प्रशासन से बड़ी है। या फिर उन्हें प्रशासन का संरक्षण प्राप्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.