सुनील जाखड़ और केवी थामस छह साल के लिए कांग्रेस से निष्कासित

सुनील जाखड़ ने अनुशासन समिति की चिट्ठी का जवाब नहीं दिया, जबकि केवी थॉमस के जवाब से पार्टी संतुष्ट नहीं
सुनील जाखड़ ने अनुशासन समिति की चिट्ठी का जवाब नहीं दिया, जबकि केवी थॉमस के जवाब से पार्टी संतुष्ट नहीं

नई दिल्ली। पंजाब कांग्रेस के दिग्गज नेता सुनील जाखड़ और केरल से कांग्रेस के नेता केवी थॉमस पर पार्टी ने अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी है। दोनों नेताओं पर पार्टी का अनुशासन तोड़ने और पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप है। कांग्रेस सूत्रों की माने तो दोनों को छह साल के लिए पार्टी से निकाला जा सकता है।

सुनील जाखड़ पर क्या हैं आरोप

सुनील जाखड़ ने पार्टी की केंद्रीय अनुशासन समिति द्वारा उन्हें जारी कारण बताओ नोटिस का जवाब नहीं दिया है। सुनील जाखड़ पर पार्टी विरोधी बयानबाजी का आरोप है क्योंकि उन्होंने 14 फरवरी को पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की आलोचना की थी। हाल ही में विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की हार के बाद चन्‍नी को पार्टी के लिए एक बोझ करार दिया था।

केवी थॉमस पर क्या हैं आरोप

थामस ने कन्नूर में माकपा द्वारा आयोजित एक संगोष्ठी में भाग लिया था । उन्होंने कथित तौर पर मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन की प्रशंसा की थी। पैनल को अपने जवाब में पूर्व केंद्रीय मंत्री ने दावा किया है कि वह केरल कांग्रेस इकाई में गुटबाजी का शिकार रहे हैं और पार्टी नेताओं द्वारा उनके साथ भेदभाव किया गया है।

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन की प्रशंसा करने के लिए उन पर लगे आरोपों का जवाब देते हुए कांग्रेस नेता केवी थॉमस ने स्पष्ट किया कि उनका बयान केरल रेल विकास निगम के बारे में था। उन्होंने कहा कि उन्होंने राज्य सरकार द्वारा शुरू की जा रही विकास परियोजनाओं से राजनीति को अलग करने की कोशिश की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.