आर्थिक संकट को लेकर श्रीलंकाई पीएम हुए मुखर, हालात और बिगड़ने के दिया अंदेशा

कोलंबो: आर्थिक तंगी झेल रहे श्रीलंका की हालत दिन प्रतिदिन खराब होते जा रही है. देस के पास पेट्रोल और दवाई समेत सभी जरूरी सामग्री का स्टॉक लगभग खत्म होने की कागार पर है. इस बीच श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने श्रीलंकाई एयरलाइन्स के निजीकरण का प्रस्ताव किया है. साथ ही उन्होंने अन्य आर्थिक हालात की भी चर्चा करते हुए कहा कि बिजली की संकट को देखते हुए आने वाले दिनों में और भी बिजली कटौती की जा सकती है.

प्रधानमंत्री विक्रमसिंघे ने देश की जनता को चेताते हुए कहा है कि आने वाले कुछ महीनों में हमारी जिंदगी और मुश्किल में होगी. मैं किसी सच को छिपाना और जनता से झूठ नहीं बोलना चाहता हूं. हालांकि ये बातें डरावनी हैं लेकिन सच्चाई अब यही है. हालांकि श्रीलंका के पीएम ने विदेशी मदद की भी उम्मीद जताई है.

दरअसल, श्रीलंका के नए प्रधानमंत्री ने इशारों इशारों में देश की जनता को यह बता दिया है देश इस समय पाई-पाई को मोहताज है और इसे हल करने में काफी समय लग सकता है. उन्होंने कहा कि अकेले 2020-21 का नुकसान 45 बिलियन श्रीलंकाई रुपये के पार है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.