झारखण्ड में लॉकडाउन लगाने की अनुशंसा,आज आपदा प्रबंधन की बैठक के बाद सरकार लेगी फैसला

रांची । झारखंड सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग को सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग संस्थान, रेस्टोरेंट आदि बंद करने की अनुशंसा की है। स्वास्थ विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने गृह, कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव को पत्र लिखकर 15 जनवरी तक सभी पब्लिक पार्क, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, स्विमिंग पूल, जिम, इंडोर स्टेडियम आदि बंद करने की अनुशंसा की है।

धार्मिक स्थलों में प्रवेश निषेध करने का आदेश

स्वास्थ विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने सभी धार्मिक स्थलों में प्रवेश निषेध करने तथा मेला आदि आयोजन पर रोक लगाने की अनुशंसा की है। स्वास्थ्य विभाग ने शादी समारोहों में 50 से अधिक लोगों के शामिल होने पर भी रोक लगाने की अनुशंसा की है।

03(HSN)

सभी तरह के शिक्षण संस्थान रहेंगे बंद

स्वास्थ्य विभाग की अनुशंसा यदि सरकार मान लेती है तो स,भी प्रकार के शिक्षण संस्थानों को बंद रखा जाएगा। चूंकि कोरोना की मौजूदा लहर का सबसे अधिक शिकार बच्चे हो रहे हैं, लिहाजा सभी बच्चों को घर में ही रखने की अपील की गई है।

कार्यालयों में 50 प्रतिशत उपस्थिति लागू करने का सुझाव

स्वास्थ विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने सभी कार्यालयों में 50 प्रतिशत उपस्थिति को लागू करने तथा अगले आदेश तक बायोमेट्रिक उपस्थिति बंद करने की अनुशंसा की है। यह भी कहा है कि मॉल को भी बंद करने की भी अनुशंसा की है, लेकिन यदि इसे खोलने की अनुमति दी जाती है तो इसमें प्रवेश उसी का होगा जिनका दो डोज का टीका लग चुका है। साथ ही क्षमता के अनुसार 25 प्रतिशत लोगों को ही वहां जाने की अनुमति होगी।

मुख्यमंत्री ने क्या कहा ?

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर कहा कि कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सरकार ने विभिन्न विभागों से सुझाव मांगे हैं। आपकी सरकार आपकी सुरक्षा हेतु सभी पहलुओं पर बारीकी से नज़र रख रही है और आपदा प्राधिकार के कल (सोमवार) के प्रस्तावित बैठक में सभी पहलुओं को ध्यान में रख आप सबके हित में उचित फ़ैसला लेगी ।तब तक आप सभी से अनुरोध है कि अफ़वाह पर ध्यान ना दें। मास्क के बिना घरों से बाहर ना निकलें। घर के बुजुर्गों एवं बच्चों का विशेष ध्यान रखें

Leave a Reply

Your email address will not be published.