राष्ट्रपति का कार्यकाल 25 जुलाई को होगा समाप्त, नई राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर हलचल बढ़ी

नई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 25 जुलाई 2022 को समाप्त हो रहा है. नये राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग), यूपीए और थर्ड फ्रंट की ओर से सियासी गलियारे में हलचल तेज हो गयी है. सत्ता पक्ष और विपक्ष के सांसद और विधायकों के आंकड़ों की गणना अभी से शुरू हो गयी है. सत्ता और विपक्ष अपनी उपस्थिति दर्ज कराने को लेकर रणनीति बना रही है. राष्ट्रपति का चुनाव में लोकसभा, राज्यसभा के सभी सांसद और सभी राज्यों के विधायक वोट डालते हैं. इन सभी के वोट की अहमियत यानी वैल्यू अलग-अलग होती है. यहां तक कि अलग-अलग राज्य के विधायक के वोट की वैल्यू भी अलग होती है. एक सांसद के वोट की कीमत 708 होती है. वहीं, विधायकों के वोट की वैल्यू उस राज्य की आबादी और सीटों की संख्या पर निर्भर होती है. राष्ट्रपति चुनाव में लोकसभा के 543, राज्यसभा के 233, राज्यों के विधानसभा के 4120 विधायक अपने मताधिकारी का प्रयोग करेंगे. कुल 4896 सांसद और विधायक राष्ट्रपति चुनाव में हिस्सा लेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.