झारखंड के 19 कोल ब्लॉक की प्री-बिड मीटिंग इसी हफ्ते 

  देश के कुल 88 कोल ब्लॉक की नीलामी की प्रक्रिया शुरू 
देश के कुल 88 कोल ब्लॉक की नीलामी की प्रक्रिया शुरू
रांची।  झारखंड के 19 कोल ब्लॉक सहित देश भर के कुल 88 कोल ब्लॉक की नीलामी का तीसरा चरण अगले वर्ष 25 जनवरी तक पूरा कर लिया जायेगा. इसके लिए कोयला मंत्रालय ने टेंडर शिड्यूल जारी कर दिया है. तय शिड्यूल के अनुसार कोयला ब्लॉक की नीलामी में भाग लेने की इच्छुक पार्टियों के साथ प्री-बिड मीटिंग 26 अक्टूबर को प्रस्तावित है.
इसके बाद तकनीकी और वित्तीय बिड आयोजित की जायेगी और इसमें सफल कंपनियों को अगले वर्ष 7 से लेकर 20 जनवरी तक आयोजित होने वाले ई-ऑक्शन में भाग लेने का मौका मिलेगा ।
आठ कोयला ब्लॉक का हो चुका है आवंटन
सूत्रों के अनुसार, झारखंड के कोयला ब्लॉक में कई बड़ी कंपनियों ने रुचि दिखायी है. इसके पहले विगत 21 सितंबर को संपन्न हुए दूसरे चरण की नीलामी के आधार पर देश के आठ कोयला ब्लॉक का आवंटन किया जा चुका है. इनमें तीन खदानें झारखंड की हैं. नीलामी में सफल घोषित की गयी कंपनियों के साथ करार पर हस्ताक्षर भी हो चुका है.
 
इसके बाद कोयला मंत्री प्रल्हाद जोशी ने इन कंपनियों के जल्द खनन शुरू करने और कोल ब्लॉक वाले राज्यों से आवंटित कोयला खदानों को चालू करने में कंपनियों को सहयोग की अपील की है.
 
2023 तक खनन की संभावना
दूसरे चरण की नीलामी में जोगेश्वर एवं खास जोगेश्वर साउथ वेस्ट कोल ब्लॉक पिनेक्कल एक्सप्लोरेशन लिमिटेड को मिला है, जबकि रौउता कोल ब्लॉक और बूढ़ाखाप कोल ब्लॉक श्री सत्या माइंस प्राइवेट लिमिटेड को मिला है.
 
इसके पूर्व हजारीबाग की गोंदलीपुरा कोल माइन्स में खनन का अधिकार नीलामी के आधार पर अडानी समूह ने प्राप्त किया है. हजारीबाग के बड़कागांव स्थित कोल ब्लॉक में 184 मिलियन टन रिजर्व कोयला है. कंपनी ने यहां खनन की तैयारियां शुरू कर दी हैं. कंपनी के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, यहां 2023 तक खनन शुरू कर दिये जाने की संभावना है.
 
झारखंड की बड़े पैमाने पर होगी राजस्व वृद्धि
तीसरे चरण और इसके बाद के चरणों में झारखंड के जिन कोल ब्लॉक की नीलामी करायी जानी है, उनमें वृंदा एंड सिसई, चितरपुर, चोरियाटांड तिलैया, जयनगर, लालगढ़(नोर्थ), लातेहार, नोर्थ धादू, बसंतपुर, बिंजा, धुलिया नोर्थ,दिघी धरमपुर नॉर्थ, दिघी धरमपुर साउथ, सीतानाला, बरवाटोली, शेरेगढ़ा आदि खदानें शामिल हैं.
माना जा रहा है कि इन कोल ब्लॉक में खनन शुरू होने से झारखंड में बड़े पैमाने पर आर्थिक गतिविधियां शुरू होंगी और इसके साथ ही रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे. झारखंड को कोयले से मिलने वाले राजस्व में भी बड़े पैमाने पर वृद्धि का अनुमान लगाया गया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com