प्रशांत किशोर की जेडीयू में होगी वापसी, लेकिन अंदर की कहानी इससे भी मजेदार है

ललन सिंह, उपेन्द्र कुशवाहा और आरसीपी सिंह की तिकड़ी को काबू में रखने के लिए प्रशांत किशोर को पार्टी में लाएंगे नीतीश- सूत्र
ललन सिंह, उपेन्द्र कुशवाहा और आरसीपी सिंह की तिकड़ी को काबू में रखने के लिए प्रशांत किशोर को पार्टी में लाएंगे नीतीश- सूत्र

पटना । चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की जेडीयू में एक बार फिर वापसी हो सकती है। नीतीश कुमार और प्रशांत किसोर की हाल ही में मुलाकात हुई थी। नीतीश नें उन्हें जेडीयू में शामिल होने का ऑफर दिया था । सूत्र बताते हैं कि तृणमूल कांग्रेस के एक तबके से नाराज प्रशांत किशोर ने नीतीश कुमार का ऑफर स्वीकार कर लिया है।

ललन सिंह, उपेन्द्र कुशवाहा और आरसीपी सिंह की आपसी गुटबाजी से नीतीश परेशान

जेडीयू के अंदर ‘नीतीश के बाद कौन ?’ की लड़ाई शुरू हो चुकी है। ललन सिंह, उपेन्द्र कुशवाहा और आरसीपी सिंह अपने-अपने तरीके से शह-मीत के खेल में लग चुके हैं। कभी यह लड़ाई खुलकर सतह पर आती है तो कभी अंदर ही अंदर सेटिंग-गेटिंग का खेल चलता रहता है। नीतीश कुमार तीनों नेताओं को चाहकर भी काबू में नहीं रख पा रहे। लिहाजा नीतीश ने जेडीयू के इस त्रिदेव को काबू में करने के लिए प्रशांत किशोर को ‘तुरूप का इक्का’ के रूप में इस्तेमाल करने की रणनीति बनाई है।

नीतीश को ‘राष्ट्रपति उम्मीदवार’ वाली खबर प्लांट कराई गई

जेडीयू के शीर्ष स्तर के नेता नाम न छापने की शर्त पर बताते हैं कि अचानक मीडिया में नीतीश कुमार को “राष्ट्रपति” बनाने जैसी खबरें मीडिया में तैरने लगीं। ये खबर दरअसल जेडीयू के त्रिदेव में से किसी एक ने प्लांट कराई थी। नीतीश कुमार को जल्द ही इसकी भनक लग गई। नीतीश ने सार्वजनिक रूप से इस खबर का खंडन तो किया ही, जिसने इस खबर को प्लांट कराई थी, उसकी भी खबर लेने का मन बना लिया है। लेकिन ये सब बेहद खामोश तरीके से और नीतीश कुमार के अपरने स्टाईल में होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.