सीनियर आइएएस अधिकारी पूजा सिंघल के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका

जेएसएमडीसी से पारित आदेश का अपीलीय अधिकार माइनिंग सचिव के पास होता है । अगर दोनों ही पदों पर एक ही व्यक्ति पदस्थापित रहेगा तो अपील करने वालों को न्याय कैसे मिलेगा
जेएसएमडीसी से पारित आदेश का अपीलीय अधिकार माइनिंग सचिव के पास होता है । अगर दोनों ही पदों पर एक ही व्यक्ति पदस्थापित रहेगा तो अपील करने वालों को न्याय कैसे मिलेगा ?

रांची । भूमि सुधार मंच ने झारखंड हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर वरिष्ठ आइएएस अधिकारी पूजा सिंघल पर एकसाथ अनेक पदों पर रहने का मामला उठाया है । याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका में कहा कि पूजा सिंघल उद्योग सचिव के पद पर हैं, माइनिंग विभाग की सचिव भी हैं और झारखंड राज्य मिनरल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (जेएसएमडीसी) की चैयरमैन भी हैं । ऐसे में एक ही अधिकारी को तीन प्रमुख पदों पर नियुक्त किया गया है जो नियम के विरुद्ध है । याचिकाकर्ता ने अदालत से यह प्रार्थना की है कि यह नियुक्ति नियम विरूद्ध है । इसलिए पूजा सिंघल को किसी एक पद पर नियुक्त किया जाना चाहिए ।

याचिकाकर्ता ने अदालत से यह प्रार्थना की है कि यह नियुक्ति नियम विरूद्ध की गई है । इसलिए पूजा सिंघल को किसी एक पद पर नियुक्त किया जाना चाहिए । जेएसएमडीसी या फिर माइनिंग सचिव के पद पर किसी अन्य अधिकारी को नियुक्त किया जाना चाहिए । क्योंकि जेएसएमडीसी से पारित आदेश का अपीलीय अधिकार माइनिंग सचिव के पास होता है । अगर दोनों ही पदों पर एक ही व्यक्ति पदस्थापित रहेगा तो अपील करने वालों को न्याय कैसे मिलेगा । प्रार्थी के अधिवक्ता के मुताबिक वर्ष 2007-08 में झारखंड हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने एक आदेश पारित कर कहा था कि जेएसएमडीसीC के चैयरमैन के पद पर वैसे अधिकारी की नियुक्ति की जानी चाहिए, जो स्वतंत्र प्रभार में हो ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.