पेट पर गमछा बांध भूखा सोने वाले परिवारों के लिए काम कर रही है हमारी सरकार- हेमंत सोरेन

अपने अधिकारों के लिए लड़ना पड़ेगा- सीएम
अपने अधिकारों के लिए लड़ना पड़ेगा- सीएम

दुमका के गांधी मैदान में झारखण्ड मुक्ति मोर्चा का 43वां स्थापना दिवस आयोजित हुआ । इस मौके पर सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि समाज के अंतिम पायदान में बैठे व्यक्ति को उसके दरवाजे पर उसका हक और अधिकार देने का काम राज्य सरकार कर रही है । समाज के सभी वर्ग और तबके के हित में कार्य योजनाएं भी बनायी जा रही है ।

बिना लड़े नहीं मिलता अधिकार

सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि पिछले 100 सालों से झारखंड की खनिज संपदाओं का लूटा जा रहा है । हमारी सरकार केंद्र से वाजिब हिस्सा मांग रही है, ताकि इस राज्य की मजबूत नींव रखी जा सके । यदि लड़ियेगा नहीं, तो यहां के लोगों को उनका वाजिब हक और अधिकार मिलने वाला नहीं है ।

केन्द्र का बजट गरीब और किसान विरोधी

उन्होंने केंद्र के बजट को गरीब व किसान विरोधी बताया । राज्य की पूर्ववर्ती सरकार के कार्यकाल में किये गये कार्यों को राज्य के आदिवासी, मूलवासी और गरीब विरोधी करार देते हुए खजाने की लूट खसोट करने का आरोप लगाया । उन्होंने कोराना महामारी और खास्ता हाल अर्थव्यवस्था के बावजूद राज्य में दो वर्ष के दौरान गरीबों की धोती-साड़ी, सभी वृद्ध और विधवाओं के लिए पेंशन की सुविधा सहित अन्य जनकल्याणकारी योजनाएं शुरू किये जाने के मसले पर विस्तार से चर्चा की ।

आपके हक और अधिकार के लिए काम कर रही है सरकार

सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि यह आपकी सरकार है । ऐसे में आपको आपका हक, अधिकार और सम्मान हर हाल में मिलेगा । आपके अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के माध्यम से राज्य के हर एक पंचायत में शिविर लगाकर लोगों की समस्याओं का ऑन द स्पॉट समाधान करने के साथ उन्हें सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से जोड़ने का कार्य सफलतापूर्वक किया गया । हमारी सरकार आपको आपके दरवाजे पर आकर आपके हक और अधिकार देने का काम कर रही है । राज्यवासियों के सहयोग से हम विकास को समाज के अंतिम पायदान पर बैठे व्यक्ति को पहुंचाने में कामयाब हो रहे हैं ।

हवाई चप्पल वाले को जहाज में चढ़ाया
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के दौरान जब झारखंड के मजदूर-श्रमिक देशभर के अलग-अलग हिस्से में फंसे थे, तब हमारी सरकार ने उनलोगों को हवाई जहाज से अपने गांव वापस लाया था, जिनके पैरों में हवाई चप्पल तक नहीं थे, क्योंकि यह भाजपा की नहीं, जनता की सरकार थी । आज भय सता रहा है कि वे लोग युवाओं का शायद ट्रेन में चढ़ने का भी अवसर न छोड़ेंगे । पता नहीं क्या होगा ।

पीएम से रखी थी यूनिवर्सल पेंशन की मांग, नहीं पूरा हुआ, तो खुद दी
उन्होंने कहा कि यहां के गरीब अपने अधिकार के लिए परेशान रहते थे । लेकिन उन्हें उनका अधिकार नहीं मिल पाता था । हमने प्रधानमंत्री से सभी बुजुर्गों-विधवाओं के लिए यूनिवर्सल पेंशन की मांग रखी थी । लेकिन उसपर कोई पहल नहीं की गयी । ऐसे में हमारी सरकार ने अपने बलबूते गुरुजी के सपनों को पूरा करते हुए यूनिवर्सल पेंशन देने का काम किया । राज्य के सभी विधवाओं, बुजुर्गों व दिव्यांगजनों को यूनिवर्सल पेंशन स्कीम के तहत पेंशन दी जा रही है । राज्य सरकार ने आपके अधिकार, आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के माध्यम से वंचितों तक पहुंच कर उन्हें उनका अधिकार देने व कल्याणकारी योजना से आच्छादित करने का कार्य किया ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.