खूँटी: लड़कियों के Private Parts में ऊँगली डालकर पूछता था परवेज, बर्दाश्त होता है या नहीं

खूँटी के NGO संचालक परवेज़ भले ही गिरफ्तार कर लिया गया हो, लेकिन उसके कारनामों को सुन आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे । रविवार (14 मार्च 2021) को भारतीय जनता पार्टी की सात सदस्यीय जांच टीम खूँटी पहुंची । वहां उन्होंने NGO में मौजूद पीड़ित आदिवासी बच्चियों और अधिकारियों से बातचीत की ।

खूँटी के तिरला स्थित NGO में घटना की जानकारी लेती BJP की जांच टीम

मामले की जांच कर रहे स्थानीय प्रखंड विकास पदाधिकारी ने बताया कि जब हम पहुंचे तो ट्रेनिंग कर रही सभी लड़कियां बिल्कुल डरी हुई थी । वे गरीब परिवारों की आदिवासी बच्चियाँ हैं।  परवेज उन्हें डरा-धमका कर रखता था। बच्चियों को डर था कि परवेज़ कहीं हमारे परिवार को भी नुकसान न पहुंचा दे । इसलिए हम चुपचाप दर्द और जिल्लत बर्दाश्त करते रहे ।

बच्चियों ने जांच कर रहे अधिकारियों को क्या बताया 

लगभग 10 लड़कियों ने एनजीओ के संचालक परवेज आलम पर उनके निजी अंगों के साथ छेड़खानी की बात को सही बताया  । उन्होंने कहा कि परवेज़ उनके Private Parts में ऊँगली डालकर कहता था कि बर्दाश्त करो । वो इसे कोर्स का हिस्सा बताता था । परवेज कहता था कि तुम कितना बर्दाश्त कर पाती हो इसी आधार पर नंबर मिलेंगे।

परवेज की पत्नी मरियम आइंद को भी लड़कियों ने बताई थी पीड़ा

 

NGO की सचिव मरियम आइंद ने जो कि आरोपी परवेज आलम की पत्नी भी है ने मामले के संबंध में स्पष्ट जानकारी नहीं दिया l लेकिन उसने कहा कि उसे लड़कियों की शिकायत की जानकारी थी। लड़कियों ने बताया कि हमने मरियम मैडम को भी बताया था लेकिन उन्होंने परवेज को कुछ नहीं कहा।

 

नर्सिंग छात्राओं के मामले में सभी आरोपियों की गिरफ्तारी हो- गंगोत्री कुजूर

 

BJP की टीम खूंटी के तिरला स्थित होरा एनजीओ के संचालकों द्वारा नर्सिंग ट्रेनिंग की बच्चियों के साथ की गई छेड़खानी एवं बदसलूकी की जांच करने पहुंची l आरती कुजूर ने कहा कि अखबारों के माध्यम से यह पता चला कि होरा एनजीओ के द्वारा खूंटी के सुदूरवर्ती आदिवासी गरीब बच्चियों को नर्सिंग की ट्रेनिंग दी जा रही है तथा इन्हीं लड़कियों के साथ एनजीओ के संचालक परवेज आलम के द्वारा पल्स जांच एवं सहनशक्ति परीक्षण के नाम पर लड़कियों के निजी अंगों मे हाथ डाला गया था  । मामले की जानकारी मिलने पर हमारी जांच टीम तिरला पहुंची है l

जांच टीम खूंटी के उपायुक्त एवं पुलिस उपाधीक्षक से मुलाकात कर घटना के संबंध में अब तक किए गए कार्रवाई की जानकारी ली तथा टीम ने उपायुक्त से मांग की कि मामले की गंभीरता पूर्वक जांच कर एनजीओ के और संलिप्त लोगों को अविलंब गिरफ्तार किया जाए।
साथ ही लड़कियों का धारा 164 के तहत बयान दर्ज कराते हुए उनका मेडिकल कराया जाए।

NGO को Black listed करे सरकार 

जांच टीम ने मांग की है कि आरोपी एनजीओ के क्रियाकलापों,दस्तावेजों, मान्यता की जांच करते हुए उसे ब्लैक लिस्टेड किया जाए। जिला प्रशासन लड़कियों,उनके परिजनों के जानमाल की रक्षा करते हुए उनके अधूरे ट्रेनिंग को अपनी निगरानी में पूरा कराये।

टीम में भाजपा की प्रदेश उपाध्यक्ष श्रीमती गंगोत्री कुजूर, महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती आरती कुजूर, महिला मोर्चा की प्रदेश प्रभारी श्रीमती आरती सिंह, भाजपा की प्रदेश मंत्री सुश्री काजल प्रधान, भाजपा की प्रदेश मीडिया सह प्रभारी सुश्री सोनी हेंब्रम, श्रीमती लक्ष्मी बाखला, जिला उपाध्यक्ष श्रीमती रदाय नाग थीं l साथ ही मोनिका कुमारी, जगरनाथ मुंडा, मनोज गणपति, सहित कई अन्य लोग भी उपस्थित थे

Leave a Reply

Your email address will not be published.