काँग्रेस के हाथ को नहीं मिल रहा जनता का साथ, तय लक्ष्य का 50% आकड़ा भी नहीं कर पाई हासिल

रांची: झारखंड में कांग्रेस को जनता का साथ नहीं मिल रहा है. इस बात का सबूत है कांग्रेस के सदस्यता अभियान के आंकड़ों. 15 लाख के आकड़े के साथ निकली काँग्रेस के सदस्यता अभियान 6 लाख सदस्य के आसपास ही सीमित रह गई. हालांकि सदस्यता अभियान के समापन के बाद एक बार फिर कांग्रेस धनबाद जिले में आगे है लेकिन सरायकेला, खरसांवा, खूंटी, सिमडेगा और गुमला जिले में उसकी हालत सबसे ज्यादा खराब है.

5 महीने की कड़ी मेहनत के बाद भी कांग्रेस के हाथ को जनता का साथ नहीं मिल पाया. डिजिटल और मैन्युअल प्लेटफॉर्म पर कांग्रेस के सदस्यता अभियान की मियाद पूरी होने के बाद पार्टी अपने ही लक्ष्य से काफी पीछे छूटती नजर आ रही है. हालांकि कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता राकेश सिन्हा सदस्यता अभियान ने आकड़े में बढ़ोतरी होने का अनुमान लगाया है. सदस्यता अभियान को लेकर उनका कहना है कि अभी सभी जिलों के फॉर्म जमा नहीं हुए हैं.

कांग्रेस का ये सदस्यता अभियान कई चरणों में चला. सदस्यता अभियान की मियाद 31 मार्च को ही पूरी हो गई थी, लेकिन इसमें 15 दिनों का विस्तार किया गया. सदस्यता के मौजूदा आकड़े को कांग्रेस के प्रदेश संगठन प्रभारी रविन्द्र सिंह स्वीकार भी कर रहे है. उनका मानना है कि अगर कांग्रेस अपने लक्ष्य से पीछे रह गई, तो इसके लिए पार्टी के नेता और कार्यकर्ता कसूरवार हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.