वरीय अधिकारी के कार्यवाही को ठेंगा दिखा रह- पंचायत सेवक, बीपीआरओ

लूट के जिम्मेवार कौन, कौन दे रहा है संरक्षण, किनके बीच बट रहे है लूट की राशी
गिरिडीह
गावां प्रखंड में इन दिनों भ्रष्टाचार चरम सीमा पर है प्रखंड से लेकर गांव तक भ्रष्टाचार ही भ्रष्टाचार दिखता है! मनरेगा का तो बुरा हाल है मनरेगा की चल रही योजनाएं सिर्फ कागज़ी खानापूर्ति हो रही है और तो और जेई ,एई अब योजनाएं में ठेका ले रहे हैं और ठेका पर ही एमबी बुक करते हैं।
सूत्रों ने बताया कि धरातल पर योजनाएं उतारी नहीं जा रही है बावजूद एमबी बुक हो रही है और अवैध तरीके से पैसे की निकासी कर बंदरबांट की जा रही है।
हालांकि गावां प्रखंड के चेरवा गांव के ग्रामीणों ने एक माह पूर्व उपविकास आयुक्त गिरिडीह को लिखित आवेदन देकर शिकायत किया था।
उपविकास आयुक्त ने एक टीम गठन कर जांच करने का आदेश दिया था लेकिन एक महीना बीत जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नही हुआ तो बुधवार को गिरीडीह उपायुक्त राहुल कुमार सिन्हा को अमतरो पंचायत के आपकी अधिकार आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में ग्रामीणों ने आवेदन देकर कार्रवाई करने की मांग किया।
बात दे कि ग्रामीणों ने बताया कि चेरवा गांव में अयोध्या विश्वकर्मा के खेत मे कुंआ निर्माण का स्वीकृति हुआ लेकिन पंचायत सेवक व ठीकेदार के मिलीभगत से तीन लाख सताइस हजार नो सौ सरसठ रुपये निकासी कर लिया। लाभुक को इसकी भनक तक नही लगा और जमीन पर कुंआ बना भी नही है। वही पहाड़पुर से चेरवा सिमाना तक मिट्टी मोरम रोड 4,23, 512 रुपए के निकासी कर लिया गया है लेकिन सड़क नही बना है। चेरवा में खेल मैदान के नाम पर 2, 36, 292 रुपये का निकासी कर लिया गया है लेकिन जमीनी स्तर पर कुछ भी नही दिख रहा है। पहाड़पुर गांव में जयराम यादव के द्वारा 17 टीसीबी का पैसा का निकासी किया गया है लेकिन स्थल पर मात्र दो- चार टीसीबी के गढ्ढे पाया गया है। चेरवा में चिंता देवी पति शिव लोहार के नाम पर डोभा स्वीकृति की गयी है लेकिन लाभुक को पता नही है। चेरवा गांव में शिव लोहार के नाम पर डोभा का स्वीकृति कर 1,33,194 रुपये का निकासी कर ली गयी है। जिसकी जानकारी लाभुक को नही।
मुखिया प्रतिनिधि भीम रविदास व पंचायत समिति के बेटा जयराम यादव व पंचायत सेवक सह बीपीओ संजय कुमार के मिलीभगत से एक ही व्यक्ति के नाम पर 20 डोभा, 2 रोड, 1 खेल मैदान, 3 कुंआ व 20 टीसीबी दिया गया है और तीनों मिलकर सरकारी पैसे का बंदरबाट कर लिया है।
ग्रामीणों ने उपायुक्त को आवेदन देकर जाँच कर कार्रवाई करने का मांग किया है। गावां प्रखंड में ऐसे दर्जनों डोभा लाभूक है जिसमें 30 से 40 हजार राशि की निकासी कर लिया है लेकिन 1इंची डोभा की खुदाई नहीं की गई है।
यहॉ कार्य बिचौलियों की मिलीभगत से ही पदाधिकारी कर रहे हैं। यहां की मुखिया सिर्फ वाहवाही अपनी लूट रहे हैं और बिचौलियों के द्वारा काम करा रहे हैं। इसकी जॉच अविलंब करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *