जस्टिस उत्तम आनंद की मोबाइल चोरी के कारण हत्या की बात बचकाना: हाईकोर्ट

मोबाइल चोरी की थ्योरी आरोपियों को बचाने के लिए- हाईकोर्ट
मोबाइल चोरी की थ्योरी आरोपियों को बचाने के लिए- हाईकोर्ट

धनबाद के दिवंगत उत्तम आनंद के मामले में झारखंड हाईकोर्ट में सुनवाई हुई । सुनवाई के दौरान सीबीआई के अधिवक्ता की ओर से अदालत को बताया गया कि यह पूरी घटना मोबाइल चोरी के कारण हुई है ।

घटना के वक्त जज के हाथ में मोबाइल नहीं,  रुमाल था

अदालत ने कहा कि सीबीआई इस मामले की तक नहीं पहुंच पायी है. क्योंकि नारको टेस्ट में आरोपियों ने यह स्वीकार किया है कि घटना को अंजाम देने से पहले उन्हें यह मालूम था कि जिस व्यक्ति को टक्कर मार रहे हैं, वह एक जज है. और जिस वक्त जज को टक्कर मारी गई उस वक्त उनके हाथ में मोबाइल नहीं रुमाल था.

टक्कर मारने वालों को पता था कि सामने वाला जज है

ऐसे में मोबाइल चोरी के लिए या घटना नहीं हो सकती. इसके साथ ही अदालत ने मौखिक टिप्पणी करते हुए कहा कि सीबीआई का यह कहना कि मोबाइल चोरी के लिए घटना को अंजाम दिया गया है, यह आरोपियों को बचाने वाला तर्क प्रतीत होता है. अदालत में इस मामले की सुनवाई अगले सप्ताह के लिए निर्धारित की है

इस मामले की सुनवाई झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की बेंच में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.