जेपीएससी का अजीब तर्क- रिजल्ट घोषित करने में देर न हो इसलिए 49 अभ्यर्थियों को कर दिया था पास

JPSC की 7 वीं से 10 वीं के रिजल्ट को लेकर बढ़ रहा है विरोध
JPSC की 7 वीं से 10 वीं के रिजल्ट को लेकर बढ़ रहा है विरोध

जेपीएससी ने पीटी परीक्षा में पास 49 अभ्यर्थियों को पहले पास घोषित किया,  फिर उन्हें फेल भी कर दिया।  जेपीएससी की ओर से तर्क दिया गया कि इन 49 अभ्यर्थियों का ओएमआर अंसर शीट आयोग को नहीं मिल रहा था । रिजल्ट घोषित करने में देरी न हो, इसलिए इन्हें प्रोविजनली पास कर दिया गया था । अब इन्हें फेल घोषित किया जाता है।

शनिवार को जेपीएससी की ओर से जारी आधिकारिक अधिसूचना के माध्यम से सूचित किया है कि एक नवंबर को आयोग के पास ओएमआर उत्तर पुस्तिकाओं की अनुपलब्धता के कारण 49 अभ्यर्थियों को अस्थायी रूप से योग्य घोषित कर दिया था। इसकी वजह बताते हुए जेपीएससी ने कहा परिणामों की घोषणा में देरी को रोकने के लिए ऐसा किया गया था।

सातवीं से दसवीं पीटी की परीक्षा के लिए पांच लाख 35 हजार 521 अभ्यर्थियों ने पंजीकरण कराया था। जिनमें महज तीन लाख 69 हजार 327 अभ्यर्थियों ने अपने प्रवेश पत्र प्राप्त किये। जबकि पांच लाख ओएमआर शीट के हिसाब से दो लाख 49 हजार 650 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी।

जारी आधिकारिक अधिसूचना में कहा गया कि 57 परीक्षार्थियों की एक नवंबर तक ओएमआर शीट की कॉपी जेपीएससी में उपलब्ध नहीं हो सकी थी। रिजल्ट में देरी रोकने के लिए 49 अभ्यर्थियों को प्रॉविजनली पास कर दिया गया। अब जांच के बाद इनको अनुत्तीर्ण किया जा रहा है।जारी नोटिस में ऐसे 49 अभ्यर्थियों को पुन: अनुतीर्ण कर दिया गया।जारी नोटिस में आठ अभ्यर्थियों के बारे में कहा गया कि अन्य कारणों से वे पास नहीं किये गये थे।

इनमें 49 अभ्यर्थियों के रोल नंबर 52058201,52236876,52236878,52236879, 52236880, 52236881,52236882, 52236884, 52236887, 52236888, 52236889, 52236890, 52236891, 52236892 52236893, 52236894, 52236895, 52236896, 52236897, 52236898, 52236899, 52236900, 52236901, 52236902,52013103, 52031738, 52087981, 52087985, 52117539, 52299082, 52321845, 52342865,52342866, 52342867, 52342868, 52342869, 52342870, 52342871, 52342874, 52342876,52342877, 52342878, 52342879, 52342880,52342881,52342883, 52342884, 52342885,52342886 शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *