अयोध्या के रामजन्मभूमि मंदिर निर्माण में लग रहा झारखण्ड का तांबा, पहली खेप रवाना

आईसीसी से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए कॉपर की सप्लाई
आईसीसी से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए कॉपर की सप्लाई

जमशेदपुर। अयोध्या में बन रहे भगवान रामलाला के भव्य मंदिर में जमशेदपुर के घाटशिला हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड का बनाया हुआ इस्तेमाल किया जा रहा है। तांबा की पहली खेप अयोध्या के लिए सोमवार को रवाना कर दी गई । घाटशिला हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड के मजदूर ,यूनियन अध्यक्ष और स्थानीय लोगों ने इसे गर्व का विष्य कहा । स्थानीय लोगों ने बताया कि इससे ज्यादा खुशी कभी नही हुई जो आज भगवान के मंदिर निर्माण में सहयोग के बाद हो रहा है ।

13.19 मीट्रिक टन तांबा अयोध्या भेजी गई

अयोध्या में मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण कार्य में ताम्रनगरी की कॉपर स्ट्रिप्स के उपयोग के लिये बीते देर रात करीब दस बजे कॉपर स्ट्रिप्स की पहली खेप मऊभण्डार स्थित हिन्दुस्तान कॉपर लिमिटेड (एचसीएल) की यूनिट इंडियन कॉपर कॉम्प्लेक्स (आईसीसी) से अयोध्या श्रीराम मंदिर निर्माण स्थल के लिए रवाना हुई है । कॉपर स्ट्रिप्स का उपयोग श्रीराम मंदिर निर्माण कार्य के दौरान दो स्टोन को आपस में जोड़ने में होना है। बीते रात 13.190 मीट्रिक टन कॉपर कैथोड स्ट्रिप्स अयोध्या भेजी गई है। कंटेनर में 221 पैकेट में लगभग 35 हजार 360 कॉपर कैथोड स्ट्रिप्स की पहली खेप की सप्लाई की गई है। कॉपर स्ट्रिप्स की शेष सप्लाई अप्रैल के प्रथम सप्ताह में होगी ।

इस खास मौके पर वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष बी सिंह देव ने कहा की यह हम सभी के लिए गर्व की बात है कि एचसीएल की घाटशिला स्थित इकाई आईसीसी से श्रीराम मंदिर निर्माण के लिए कॉपर की सप्लाई की जा रही है। कॉपर स्ट्रिप्स की यह पहली खेप भेजी जा रही है। जल्द ही दूसरी खेप की सप्लाई होगी। उन्होंने बताया कि करीब 27 हजार मीट्रिक टन यानि 70 हजार पीस की सप्लाई होनी है जिसमें से आधी सप्लाई की गई है।

एल एण्ड टी कंपनी करा रही है मंदिर का निर्माण

अयोध्या में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद से भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण कार्य चल रहा है। श्रीराम मंदिर निर्माण कार्य, लार्सन ऐंड ट्रूबो, यानी एल एंड टी  कम्पनी करा रही है। मंदिर निर्माण में घरेलू कॉपर का उपयोग होना है। यही कारण है कि एलएंडटी कम्पनी ने कॉपर कैथोड स्ट्रिप्स के लिए पब्लिक सेक्टर यूनिट एचसीएल की मऊभण्डार स्थित इकाई इंडियन कॉपर कॉम्प्लेक्स (आईसीसी) से संपर्क स्थापित किया। एचसीएल-आईसीसी की अपनी एक विशिष्ट पहचान है जिसके कॉपर की शुद्धता 99.9 फीसदी तक की है। एलएंडटी कम्पनी की ओर से एचसीएल-आईसीसी से करीब 70 हजार 500 कॉपर कैथोड स्ट्रिप्स की डिमांड की गई है। इसका अनुमानित भार 27 हजार मीट्रिक टन है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.