झारखंड में नये वेरिएंट “ओमिक्रॉन” के जांच के लिए एक भी मशीन नहीं

रिम्स में भी जीनोम सिक्वेंसिंग मशीन नहीं है मौजूद
रिम्स में भी जीनोम सिक्वेंसिंग मशीन नहीं है मौजूद

रांची। ओमिक्रॉन वेरिएंट ने झारखंड सरकार की चिंता बढ़ा दी है । ये चिंता इसलिए भी है क्योंकि झारखंड में कोरोना संक्रमण के नए वेरिएंट की टेस्टिंग की कोई सुविधा नहीं है । हाल ये है कि कोरोना के नए वेरिएंट की जांच के लिए जीनोम सिक्वेंसिंग मशीन अब तक झारखंड में उपलब्ध नहीं है । प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में भी इसकी सुविधा नहीं है । राज्य में टीकाकरण की रफ्तार भी सुस्त है जिसे देखते हुए स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कोरोना टीकाकरण अभियान में तेजी लाने के निर्देश दिए है । मंत्री ने ये भी कहा है कि कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर सतर्कता बरतने की जरूरत है ।

बरती जा रही है सतर्कता 

कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर पूर्वी सिंहभूम जिले में खास अलर्ट जारी किया गया है । यहां विदेशों से सबसे अधिक लोग आते हैं इसलिए जिले में सख्ती भी बढ़ा दी गई है । पूर्वी सिंहभूम जिले में देश के विभिन्न राज्यों से लोग पहुंचते हैं । इसी को देखते हुए बस स्टैंड और टाटानगर रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की जांच की जा रही है । यात्रियों की जांच के साथ-साथ उनका पता भी लिया जा रहा है ।

उठाए गए एहतियाती कदम

कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट के खतरों के मद्देनजर एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों की जांच के लिए निगरानी टीमों की तैनाती की गई है । साथ ही पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं । स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने सभी उपायुक्तों को अलर्ट जारी करते हुए दक्षिण अफ्रीका समेत 12 हाई रिस्क देशों से लौटने वाले सभी लोगों की पहचान कर कोरोना टेस्ट कराने के आदेश दिए हैं ।

बरती जा रही है विशेष चौकसी 

अपर मुख्य सचिव ने केंद्र सरकार के निर्देशों का हवाला देते हुए 12 हाई रिस्क वाले देशों से आने वाले सभी लोगों को एयरपोर्ट पर आरटी-पीसीआर टेस्ट कराने को कहा है । इनमें दक्षिण अफ्रीका, ब्रिटेन, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, सिंगापुर, हांगकांग, इजरायल सहित यूरोपीय संघ के देश शामिल हैं । इन देशों से आने वाले प्रत्येक यात्री के लिए 7 दिनों के होम क्वारंटाइन को अनिवार्य करने को कहा गया है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *