झारखण्ड के सीएम को विकास और रोजगार से ज्यादा नमाज़ की चिंता- जयंत सिन्हा

हेमंत सरकार की कमजोर इच्छाशक्ति के कारण नहीं बन पा रहा धालभूमगढ़ एयरपोर्ट
हेमंत सरकार की कमजोर इच्छाशक्ति के कारण नहीं बन पा रहा धालभूमगढ़ एयरपोर्ट

जमशेदपुर। हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने पूर्वी सिंहभूम जिले के धालभूमगढ़ में प्रस्तावित हवाई अड्डे के निर्माण में देरी पर नाराजगी जताते हुए कहा कि झारखण्ड सरकार को काम करना ही नहीं है। वे तो बस 24 घंटे राजनीति में उलझे रहते हैं। उन्हें विकास से ज्यादा नमाज की चिंता सताये जा रही है। जयंत सिन्हा ने कहा कि जब में केन्द्र में नागरिक उड्ड्ययन मंत्री था तभी धालभूमगढ़ एयरपोर्ट के लिए  जमीन और पैसे का इंतजाम कर दिया गया था, लेकिन इस सरकार की इच्छाशक्ति इतनी कमजोर है कि काम आगे ही नहीं बढ़ पा रहा।

उद्योगों के विकास और रोजगार के लिहाज से धालभूमगढ़ एयरपोर्ट जरुरी

बीजेपी की ओर से जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया कि शनिवार को यहां अपने एक दिवसीय दौरे के दौरान पूर्व केंद्रीय राज्य मंत्री ने कहा कि धालभूमगढ़ में प्रस्तावित हवाई अड्डा उद्योग और रोजगार के अवसर के लिहाज से अहम है लेकिन हेमंत सोरेन सरकार को हवाई अड्डे की जगह ‘नमाज’ की ज्यादा चिंता है ।

जनवरी 2019 में ही 100 करोड़ की राशि आवंटित की थी

झारखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुबर दास और जमशेदपुर के सांसद विद्युत बारन महतो के साथ सिन्हा ने जनवरी 2019 में इस हवाई अड्डे के निर्माण कार्य की आधारशिला रखी थी. केंद्र सरकार ने ‘उड़ान’ योजना के तहत इसके लिए 100 करोड़ रुपए की राशि भी आवंटित की थी।

हजारीबाग से भाजपा सांसद सिन्हा ने आरोप लगाया कि सोरेन सरकार के सत्ता में आते ही हवाई अड्डे का निर्माण कार्य रूक गया । राज्य विधानसभा में ‘नमाज’ के लिए एक अलग कमरा आवंटित करने का हवाला देते हुए सिन्हा ने कहा कि राज्य सरकार को एक महत्वपूर्ण हवाई अड्डे के निर्माण से ज्यादा ‘नमाज’ की चिंता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com