मंत्री बन्ना गुप्ता के विरोध में खुलकर उतरे इरफान अंसारी और प्रदीप बलमुचू, कहा- मंत्री हमारा फोन नहीं उठाते

दुमका में प्रमंडलीय स्तरीय संवाद कार्यक्रम का उद्घाटन
दुमका में प्रमंडलीय स्तरीय संवाद कार्यक्रम का उद्घाटन

दुमका । कांग्रेस के अंदर एक बार फिर घमासान शुरू हो गया है। एक के बाद एक कई नेताओं ने मंत्री बन्ना गुप्ता पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। इससे ये आशंका जताई जा रही है कि बन्ना गुप्ता की मंत्री की कुर्सी कहीं खतरे में तो नहीं ? क्योंकि कांग्रेसी उसी नेता के खिलाफ खुलकर बोलने लगते हैं , जिसके खिलाफ कुछ कार्रवाई होने वाली हो।

बलमुचू और इरफान ने खोला मोर्चा

बन्ना गुप्ता के खिलाफ बिगुल फूंक चुके इरफान अंसारी के बाद अब पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार बलमुचु का नाम सामने आया है। उन्होंने सबके सामने यह कहकर चौंका दिया कि जब मंत्री उनका फोन नहीं उठाते तो दूसरों की क्या बिसात। दुमका में विधायक इरफान अंसारी ने भी खुलकर बन्ना गुप्ता के खिलाफ मोर्चा खोल दिया । प्रभारी अविनाश पांडे के सामने ही उन्होने कहा कि स्वास्थ्य मंत्री अपने पद के घमंड में आम कार्यकर्ताओं और विधायकों से सीधे मुंह बात नहीं करते ।

अविनाश पांडे ने भी दिए थे संकेत

अपने झारखंड दौरे के पहले दिन रांची एयरपोर्ट पर संवाददाताओं से बात करते हुए प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा था कि जिस मंत्री के बारे में कार्यकर्ता सही फिडबैक नहीं देंगे, उन्हें बदल दिया जाएगा । इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता का एर वीडियो वायरल हुआ था , जिसमें वे धनबाद के इंस्पेक्टर को धमकाते हुए कहते हैं कि मेरे रहते कांग्रेस का हर कार्यकर्ता मंत्री है। इन सब घटनाओं से ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि बन्ना गुप्ता शायद बौखलाहट में हैं। कहीं मंत्री पद जाने के डर से ये बौखलाहट तो नहीं ?

चिंतन शिविर के बाद शुरू हुए संवाद कार्यक्रम में सबसे अधिक बात संवादहीनता की हो रही है। कार्यकर्ता बन्ना गुप्ता के अलावा मंत्री रामेश्वर उरांव से भी व्यथित हैं। उनकी भी शिकायतें की गई हैं और अब देखना है कि इन शिकायतों पर होता क्या है। अधिसंख्य लोगों ने मंत्रियों पर कांग्रेस नेतृत्व अभी सभी को सुनकर कुछ निर्णय लेने की स्थिति में है। कार्यकर्ताओं और नेताओं की व्यथा सुनने का सिलसिला 15 मार्च तक चलता रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.