बांग्लादेश: युवाओं की भीड़ ने दर्जनों दुर्गा मंडप तबाह कर दिए, दो भक्तों की हत्या

दुर्गा जी की मूर्ति को नुकसान पहुंचाते दंगाई
दुर्गा जी की मूर्ति को नुकसान पहुंचाते दंगाई

बंग्लादेश से लगातार दिल दहलाने वाली खबरें आ रही है। ढाका से 120 किलोमीटर दूर कोमिला शहर से फैली आग अब अलग-अलग इलाकों तक फैल रही है। कोमिला एरिया में सैकड़ों की संख्या में आए मुस्लिम युवाओं की भीड़ ने बुधवार को दर्जनों दुर्गा मंडप को तहस-नहस कर दिया, मूर्तियाँ तोड़ डाली ।

क्या है पूरा मामला? 

बांग्लादेश की कट्टरपंथी ताकतें हिंदू समुदाय को दुर्गा पूजा करने से रोकने का प्रयास कर रही हैं । टीपू सुल्तान रोड पर मौजूद दुर्गा मंदिर में हिंदुओं को स्थानीय मुस्लिम दबंगों ने नवरात्रि की पूजा करने से रोका है । बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल ने दावा किया है कि स्थानीय इस्लामी चरमपंथियों ने नवरात्रि के दौरान शंखनिधि मंदिर में हिंदू श्रद्धालुओं को मां दुर्गा की पूजा नहीं करने दी है।

जमात-ए-इस्लामी ने ली हमलों की जिम्मेदारी 

दरअसल अफगानिस्तान में तालिबान की जीत के बाद कट्टरपंथियों ने बंग्लादेश में भी तालिबान की तरह शासन पद्धति की मांग की है।  बीएनपी और जमात-ए-इस्लाम के कुछ बदमाशों ने ननुयार दिघीर पर मंदिर में दुर्गा पंथ में गणेश के चरणों में पवित्र कुरान की एक प्रति लगाई । अराजक तत्वों ने इसकी कुछ तस्वीरें लीं और भाग गए । कुछ ही घंटों में फेसबुक का इस्तेमाल कर भड़काऊ तस्वीरों के साथ प्रचार जंगल की आग की तरह फैल गया । इसके बाद गुस्साई भीड़ ने पूजा पंडालों और मंदिर में तोड़फोड़ की ।

चांदपुर और आसपास के इलाकों में फैली हिंसा 

हिंदुओं ने स्थानीय मुस्लिमों के इस हमले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी किया. उन्होंने अपने हाथों में प्ले-कार्ड ले रखे थे. बीएचयूसी ने एक वीडियो भी साझा किया, जिसमें हिंदू मजबूरी में सड़क पर ही पूजा करते नजर आ रहे हैं ।

गौरतलब है कि इससे पहले चटगांव के फिरंगी बाजार इलाके में इस्लामी चरमपंथियों ने श्री शमशानेश्वर शिव विग्रह मंदिर की दुर्गा प्रतिमा को तोड़ दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com