गुमला: डायन के नाम पर पत्नी ने जेठ और जेठानी की कुल्हाड़ी से काटकर की हत्या

हत्या करने के बाद महिला ने खुद थाने में सरेंडर कर दिया
हत्या करने के बाद महिला ने खुद थाने में सरेंडर कर दिया

गुमला के चैनपुर थाना क्षेत्र के भगत बुकमा गांव से एक सनसनीखेज खबर सामने आ रही है। जिसमें डायन बिसाही के अंधविश्वास में छोटे भाई की पत्नी के द्वारा जेठ और जेठानी की हत्या कुल्हाड़ी से गर्दन काट कर करने का मामला प्रकाश में आया है। घटना शुक्रवार रात की बताई जा रही है। उसके बाद हत्यारोपी ने खुद ही थाने में सरेंडर करते हुए अपना गुनाह कबूल कर लिया है।पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर मामले की छानबीन शुरू कर दी है।

आरोपी के मुताबिक उसके बच्चे पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे। उसे आशंका थी कि उसके जेठ और जेठानी ने यह बच्चों पर कुछ कर दिया है। उसके बाद उसने शुक्रवार को दोनों की हत्या कर दी। दंपत्ति ने जान की सुरक्षा की पुलिस व ग्राम प्रधान से गुहार लगाई थी ।

आरोपित सुमित्रा को शक था कि लूदरा चीक व उसकी पत्नी फूलमइत देवी ने उसकी बेटी को डायन बिसाही की है जिसके कारण उसकी तबीयत खराब हो गई है। इस मामले को लेकर सुमित्रा ने दंपत्ति को धमकाते हुए उसकी बच्ची को स्वस्थ करने को कहा था नहीं तो बुरे परिणाम भुगतने की धमकी दी थी। सुमित्रा की धमकी से दंपत्ति भयभीत हो गई और ग्राम प्रधान से शिकायत की और जान की रक्षा की गुहार लगाई।

जघन्य हत्याकांड के बाद गांव में पसरा सन्नाटा
जघन्य हत्याकांड के बाद गांव में पसरा सन्नाटा

मामले की गंभीरता को देखते हुए ग्राम प्रधान ने शुक्रवार को गांव में बैठक बुलाई और दोनों पक्षों को उस बैठक में बुलाया। ग्राम प्रधान ने जब सुमित्रा व उसके बेटे को समझाने का प्रयास किया तो दोनों ग्राम प्रधान से ही उलझ गए और उनके साथ धक्का मुक्की करने लगे। तब ग्राम प्रधान ने कह दिया कि यह मामला उनसे नहीं सुलझेगा, पुलिस ही इसे सुलझा पाएंगे।

इसके बाद दंपत्ति चैनपुर थाना गए और थाना में मौजूद पुलिस अधिकारियों को सारी बात बताई और जान बचाने की गुहार लगाई। तब पुलिस अधिकारी ने दंपत्ति को मोबाइल नंबर दिया और कोई घटना होने पर सूचित करने को कहा। इसके बाद दंपत्ति अपने घर चले गए। रात में खाना खाकर दंपत्ति सोए गए। मौका पाकर आरोपित दंपत्ति के कमरे में प्रवेश कर गए और बारी बारी से पति पत्नी की से काट कर हत्या कर दी गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.