राज्य में अवैध उत्खनन, खनिजों की तस्करी की सीबीआई जांच हो: बाबुलाल मरांडी

राज्य में चल रही है लुटेरों की सरकार
राज्य में चल रही है लुटेरों की सरकार- बाबूलाल 

मौत की आंकड़ो को छुपा रही राज्य सरकार

भाजपा विधायक दल के नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री बाबुलाल मरांडी ने प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि धनबाद के निरसा में अवैध उत्खनन से हुए हादसे को प्रशासन लीपापोती में जुटी हैं। प्रशासन के संरक्षण में खुलेआम कोयले की लूट मची हैं।
उन्होंने कहा कि गोपिनाथपुर, कापासरा और दहीबाड़ा खदान का निरीक्षण किया, उसमें स्पष्ट दिखता है कि कैसे संगठित रूप में कोयले का अवैध उत्खनन और तस्करी होती है।

उन्होंने कहा कि धनबाद के खदानों में जाकर देखने और स्थानीय लोगो से जो जानकारी मिली है उससे स्पष्ट है कि झारखंड में कोयले की अवैध लूट मची है। उन्होंने कहा कि राज्य में लूटेरों की सरकार है।

उन्होंने कहा कि अवैध रूप से चल रहे अवैध उत्खनन एवं चाल धँसने और मौत की आंकड़ा को छुपाने की स्थानीय पुलिस की मिलीभगत के बीच जाँच कमिटी से निष्पक्षता की उम्मीद नहीं की जा सकती। उन्होंने राज्य सरकार से मांग किया कि इस लूट की घटना की जाँच सीबीआई से करानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि पंचेत स्थित दहीबाड़ी खदान हादसे में पुलिस किसी की भी मौत से इनकार करती है। लेकिन एक मृतका का पति हमारे सामने आकर बताया कि मंगलवार की सुबह 6:30 बजे हुए हादसे में उसकी पत्नी की मौत हो गई। उन्होंने कहा कि पुलिस अबतक कुल 5 मौत की बात कहती है अब उसे कम से कम 1 संख्या उसमें जोड़ लेनी चाहिए।

बाबूलाल ने कहा कि लूट को रोकने के लिए सरकार विफल है और जो उसमे सुरक्षा कर्मी, पुलिसकर्मी शामिल है उनके ऊपर एफआईआर दर्ज कर कार्यवाई करे, तब जाकर ये लोग बात देंगे कि कौन कौन लोग इसमें शामिल है। उन्होंने कहा कि ऐसे में राष्ट्रीय संपति का भी नुकसान है और गरीब जनता को जान में जोखिम डालकर काम करवाया जा रहा है। ये सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि दोनों को संरक्षित करें।

उन्होंने कहा कि धनबाद जिला में बीसीसीएल एवं ईसीएल एरिया में कोयले की लूट हो रही है।उस पूरे मामले की जांच राज्य सरकार सीबीआई से जांच करवानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि राज्य में लुटेरों की ही सरकार चल रही है जो भयावह स्थित है। उन्होंने कहा कि यदि यह लूट जारी रही तो इससे खनिज संपदा के साथ साथ गरीबो के जान माल का नुकसानभी होता रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.