जल्द प्राइवेट होगी पवन हंस, केंद्र सरकार 51% हिस्सेदारी बेचने पर कर रही है विचार

नई दिल्ली: एयर इंडिया के सेल आउट होने के बाद ऐवीऐशन सेक्टर में केंद्र सरकार एक बार फिर बड़ा कदम उठाने जा रही है. सरकार ने हेलिकॉप्टर सर्विस प्रोवाइड करने वाली सरकारी कंपनी पवन हंस को बेचने का फैसला किया है. 51% शेयर के साथ फिलहाल पवन हंस का स्वामित्व भारत सरकार के पास है जिसके सरकार ने बेचने का फैसला किया है. जानकारी के अनुसार पवन हंस का खरीददार स्टार9 मोबिलिटी नामक कंपनी है जो की 51% शेयर के एवज में 211.14 करोड़ का भुगतान करेगी. फिलहाल ये डील जून तक पूरा होने की उम्मीद जताई जा रही है.

पवन हंस लिमिटेड में सरकार की हिस्सेदारी बेचने की डील 211.14  करोड़ रुपये में पूरी हुई है. पवन हंस लिमिटेड लंबे समय से घाटे में चल रही है. ये सरकार और लोक उपक्रम ओएनजीसी का जॉइंट वेंचर है. इसमें ONGC के पास 49% हिस्सेदारी है. इस डील के लिए सरकार ने रिजर्व प्राइस 199.92 करोड़ रुपये रखा था. जबकि पूरी कंपनी की वैल्यू 414 करोड़ रुपये आंकी गई है. इसके साथ ही कयास लगाए जा रहे है कि ओएनजीसी भी अपनी 49% की हिस्सेदारी बहुत जल्द बेच सकती है. 49% शेयर की वैल्यू 202.86 करोड़ रुपए लगाई गई है. फिलहाल पवन हंस के 49% हिस्सेदारी के लिए ओेएनजीसी को तीन कंपनियों से बिड प्राप्त हुई है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.