पूर्व आईपीएस ने घर के तहखाने में बना रखे थे 650 लॉकर, चार लॉकर से ही 6 करोड़ बरामद

लॉकरों से करोड़ों रुपये के जेवरात बरामद
लॉकरों से करोड़ों रुपये के जेवरात भी बरामद

1983 बैच यूपी कैडर के पूर्व आईपीएस राम नारायण सिंह के मकान में चार तीन दिन से चल रही आयकर विभाग की इनवेस्टिगेशन टीम के सर्वे में पांच संदिग्ध लाकर की पुष्टि हो चुकी है। जिसमें से चार लाकरों से छह करोड़ रुपये से अधिक की नकद राशि निकाली जा चुकी है। यह राशि रात तीन बजे से आयकर टीम की ओर से गिनी जा रही है। हालांकि, एक लाकर में कुछ नहीं निकला, लेकिन पांचवें लाकर को खोलने के अधिकारियों को उसके मालिक के आने का इंतजार करना पड़ रहा है।

पत्नी के नाम पर चला रखा था कारोबार

निजी लाकर का कारोबार पूर्व आइपीएस की पत्नी मानसम कंपनी के नाम से संचालित करती है। उनके यहां पर अब तक जिन लोगों के नाम से लाकर मिले हैं, वह सब बहुत ही मामूली लोग है, यह पैसा उनका नहीं है। अधिकारी यह पता लगाने का प्रयास कर रहे है कि इन पैसों का मालिक कौन और किन लोगों का इसके पीछे हाथ है।

नोटों और जेवरात से भरे मिले लॉकर
विभागीय सूत्रों का कहना है कि इनकम टैक्स की रेड में अब तक कई लॉकर्स खोले जा चुके हैं. उन लॉकर्स से विभाग को बेशुमार पैसा और जेवरात मिले हैं । विभागीय सूत्रों के मुताबिक लॉकर किराये पर देने के नाम पर कई अनियमितताएं पाई गई हैं. मसलन, वहां लॉकर लेने वालों के केवाईसी नहीं मिले हैं. जबकि कइयों का दूसरा रिकॉर्ड नहीं मिला है ।

आयकर विभाग की टीम को गाजियाबाद में बेनामी संपत्ती के जांच में शनिवार जानकारी मिली थी कि सेक्टर-50 और गाजियाबाद में निजी लाकर देने वाली मानसम कंपनी के दफ्तर में काफी नकद राशि छिपाई गई है। निजी लाकर पूर्व आइपीएस के चार मंजिला मकान के बेसमेंट में बनाया गया है, जिसका संचालन उनकी पत्नी करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.