चतरा: बंध्याकरण के नौ माह बाद महिला ने दिया बच्ची को जन्म

स्वास्थ विभाग का गजब खेल, बंध्याकरण हो गया फेल
स्वास्थ विभाग का गजब खेल, बंध्याकरण हो गया फेल

चतरा: हरि अनंत हरि कथा अनंता। चतरा स्वास्थ्य विभाग के खेल बड़े ही निराले हैं। विभाग की जितनी भी बखान की जाय कम है। इसकी बानगी जिले के मयूरहंड प्रखंड के तिलरा गांव में देखने को मिली। यहां स्वास्थ विभाग की लापरवाही उजागर हुई। बंध्याकरण होने के बाद भी महिला ने बच्ची को जन्म दिया।

ज्ञात हो की प्राथमिक स्वास्थ केंद्र में राजू पासवान की पत्नी कंचन देवी ने 25 जनवरी 2021 को प्रभारी डाक्टर सुमित ने प्रमाण पत्र दिया है। वहीं महिला ने 19 सितंबर को मां अम्बे नर्सिग होम हजारीबाग में बच्ची को जन्म दिया।जिससे दलित परिवार चिंतित है। आखिर विभाग के लापरवाही से चौथी गर्भ से जन्म ली बच्ची का लालन पालन के लिए कौन जिम्मेवारी लेगा।

जब घटना की जानकारी स्वास्थ्य महकमे को हुई तो पीड़ित महिला को आवाज नही उठाने का दबाव बनाया गया। जब महिला प्रसव के वक्त प्राथमिक स्वास्थ केंद्र इटखोरी गई तो सीरियस बताते हुए हजारीबाग भेज दिया गया। परिजनों ने उसे निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया। जहां बड़ा ऑपरेशन से बच्ची का जन्म हुआ। ऐसे में कर्ज में डूबे परिवार ने न्याय की गुहार लगाई है। यदि विभाग ने पहल नहीं किया तो न्यायालय के शरण में जाना मजबूरी होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com