Exclusive: रूस में बिहारी मूल के विधायक अभय कुमार सिंह से खास बातचीत

अभय कुमार सिंह मूल रूप से बिहार के गया जिले के रहने वाले हैं। वे पुतिन की पार्टी से विधायक हैं । उन्होने रूस की लड़की से शादी की और वहीं बस गए….उज्ज्वल दुनिया से बातचीत के दौरान वे बताते हैं कि भारत सहित पूरी दुनिया में पश्तिमी मीडिया का कब्जा है…वे अपनी बात लोगों को बताते हैं और दुनिया उसे ही सच मान लेती है…फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब जैसे तमाम सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म अमेरिकी कंपनियों के हैं….इसी तरह बीबीसी, सीएनएन जैसे चैनल भी वहीं बातें दिखा रहे हैं जो नाटो और अमेरिका को सूट करती हैं…उनसे बातचीत की उज्ज्वल दुनिया के प्रधान संपादक पंकज प्रसून ने…

पुतिन की पार्टी के विधायक अभय कुमार सिंह अपनी पत्नी नतालिया के साथ

रूस के कुर्स्क से विधायक अभय कुमार ने रूस की ओर से यूक्रेन पर हमले की वजह बताते हुए कहा, “मान लीजिए अगर चीन बांग्लादेश या किसी और पड़ोसी देश में अपना सैन्य अड्डा बना दे तो भारत कैसी प्रतिक्रिया देगा। भारत को यह बिल्कुल पसंद नहीं आएगा।”

‘नाटो की हरकतों की वजह से लिया गया है फैसला’
सिंह ने कहा, “नाटो का निर्माण ही हुआ था सोवियत संघ के खिलाफ। जब सोवियत संघ टूट गया, तब भी नाटो नहीं टूटा। वो धीरे-धीरे हमारे बॉर्डर तक चला आया। यूक्रेन का बॉर्डर हमारे काफी करीब है। ऐसे में अगर नाटो की सेना को हमारे पड़ोस में बुला रहे हैं तो यह उनकी तरफ से बहुत बड़ा उल्लंघन है। इसके लिए हमारे राष्ट्रपति को कुछ न कुछ तो करना था। इसलिए हमारे राष्ट्रपति और संसद ने एक फैसला लिया।”

पुतिन के परमाणु सेना को तैयार रखने वाले बयान का क्या अर्थ?
रूसी विधायक ने पुतिन के एलान को लेकर स्पष्टीकरण दिया। उन्होंने कहा, “परमाणु हथियार से डरने की कोई बात नहीं है। क्योंकि हमारे राष्ट्रपति ने जो एलान किया है कि अगर कोई दूसरा देश हमारे ऊपर हमला करता है तो ही उसका जवाब देने के लिए हमने अपनी परमाणु सेना को तैयार रखने के लिए कहा है। ये यूक्रेन के लिए नहीं है।

उन्होंने कहा, “हम परमाणु हथियारों का अभ्यास नहीं कर रहे। हमने सिर्फ उन्हें अलर्ट रहने के लिए कहा है। इसका मतलब यह नहीं है कि हमारी सेना किसी पर हमला करने जा रही है। यह सिर्फ इसलिए है कि अगर कोई हम पर हमला करे तो उस पर जवाबी कार्रवाई की जा सके।”

यूक्रेन में रूसी सेना का अभियान क्यों अटका?
अभय कुमार सिंह के मुताबिक, “हमें जो यूक्रेन में सैन्य अभियान में समय लग रहा है, इसमें वहां की आम जनता को सुरक्षित रखने और सैन्य अभियान को पूरा करने के लिए इतना टाइम लग रहा है रूस की तरफ से।”

‘राजधानी कीव छोड़कर भाग चुके हैं जेलेंस्की’
रूसी विधायक ने कहा, “यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर जेलेंस्की की ओर से भेजे गए डेलिगेशन के साथ रूस की बैठक चल रही है। अगर मीटिंग में कोई रास्ता निकलता है तो ये सबसे अच्छा रास्ता है जेलेंस्की के पास। अगर कोई हल नहीं निकलता है, तो हमारे पास कुछ दिन पहले ही जानकारी आई थी कि वो कीव छोड़कर जा चुके हैं और वे रिकॉर्ड किए हुए वीडियो तारीख बदलकर डाल रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.