नौ वर्ष के बच्चे को हाथियों ने पटक-पटक कर मार डाला

माँ की आखों के सामने ही हाथियों ने रौशन महतो को पटक-पटक कर मार डाला
माँ की आखों के सामने ही हाथियों ने रौशन महतो को पटक-पटक कर मार डाला

गोला। गोला थाना क्षेत्र के कुसुमडीह जंगल में हाथियों के झुंड ने संजय महतो के एकलौता पुत्र रोशन कुमार 9 वर्ष को उसके मां एतवारिया देवी के सामने ही बड़ी बेरहमी से पटक- पटक कर मार डाला। घटना बुधवार सुबह करीब आठ बजे की है। दोनो मां बेटा शौच के लिए जंगल में गए थे।

हाथियों ने सबसे पहले मृतक की मां को सूंढ़ से लपकने का प्रयास किया। हाथी का सूंढ़ उसके शाल में फंस गया। जिससे वो गिर गई। इसके बाद हाथी ने उसके बेटे को अपना शिकार बना लिया। हाथियों का झुंड पटकते हुए दूर तक ले गया। जिससे उसकी मौत हो गई। इधर घटना के बाद ग्रामीणों की भीड़ लग गई।

इसकी जानकारी वन विभाग एवं गोला थाना को दी गई। घटना स्थल पहुचे वन कर्मियों को ग्रामीणों ने जमकर विरोध किया। ग्रामीणों ने कहा कि वन कर्मी हाथियों को भगाने में असफल साबित हो रहे है। सिर्फ दिखावा के लिए ये कार्य करते है। हाथियों का झुंड पिछले कई माह से आस पास का जंगलो में डेरा जमाए है। लेकिन इन्हें भगाने में वन कर्मियों नें कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। वन कर्मी वसूली में अपना समय बिताते है।

तत्काल पच्चीस हजार परिजनों को वन विभाग के द्वारा विधायक ने दिया
विधायक की पहल पर परिजनों को वन विभाग ने तत्काल पच्चीस हजार रुपये दिया

घटना की जानकारी के बाद विधायक ममता देवी घटना स्थल में पहुँची। उन्होंने दूरभाष पर रेंजर से बात की। उन्होंने रेंजर को हिदायत देते हुए कहा कि हाथियों को भगाने में कोई ठोस कदम विभाग उठाय। ग्रामीण क्षेत्रो में सुरक्षा का उपक्रम एवं फसलो की क्षतिपूर्ति का मुआवजा भी जल्द देने की बात कही। पुलिस ने शव को कब्जे में कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

परिजनों को पच्चीस हजार मुआवजा दिया

हाथियों का शिकार बना रोशन कुमार के पिता संजय महतो को वन विभाग के द्वारा विधायक ममता देवी ने तत्काल पच्चीस हजार का मुआवजा राशि दी गई। शेष राशि का भुगतान जल्द करने का निर्देश विधायक ने वन कर्मियों को दिया। विधायक ने कहा कि हाथियों से लोगों को सुरक्षा देना वन कर्मियों का दायित्व है। लेकिन वन कर्मी लापरवाह हो जाएंगे यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। मृतक के परिजनों को चार लाख रुपये मिलने का प्रावधान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *