दो साल से झारखंड का विकास पूरी तरह ठप – अनंत ओझा

सिर्फ आदिवासियों के नाम पर राजनीति कर रही है हेमंत सरकार,  जबकि इनके राज में आदिवासियों पर अत्याचार बढ़ा- अनंत ओझा
सिर्फ आदिवासियों के नाम पर राजनीति कर रही है हेमंत सरकार, जबकि इनके राज में आदिवासियों पर अत्याचार बढ़ा- अनंत ओझा

साहिबगंज/प्रतिनिधि

सोमवार को भाजपा झारखण्ड प्रदेश की ओर से राज्य के सभी जिला मुख्यालयों में हेमन्त सोरेन सरकार के दो वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में पोल खोल हल्ला बोल राज्यव्यापी एकदिवसीय धरना स्टेशन चौक पर जिलाध्यक्ष रामदरश यादव के अध्यक्षता में दिया गया। साथ ही राज्य के कल्याण एवं विकास हेतु धरना स्थल पर वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ हवन भी किया गया। मुख्यवक्ता के रूप में राजमहल विधायक अनंत ओझा थे।

विधायक ओझा ने कहा कि ग्रामीण सड़कों का हाल बेहाल हैं। जबकि सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री साहिबगंज जिला से ही आते हैं। ग्रामीण विकास विभाग राज्य के साथ विश्वासघात कर रही हैं अभी तक अपने बजट का मात्र 11 फिसदी राशि ही खर्च कर पायी हैं जबकि की इस साल का बजट का मात्र दो महीने बचे हैं। जिला की मिर्जाचौकी- राजमहल, लिट्टीपाड़ा की सड़कें बेहाल है और विधानसभा में सड़कों के निर्माण का मुद्दा कई बार उठाया गया। मुख्यमंत्री स्वयं पीडब्ल्यूडी का कार्यभार संभाल रहे हैं और पीडब्ल्यूडी का बजट का 17 फीसदी  खर्च कर पायी हैं। उन्होंने ने कहा सरकार कोरोना महामारी का रोना रो विकास कार्य नहीं कर पाने का ढिढोरा पीट रही है। स्वास्थ्य व्यवस्था भी बदहाल है। सरकार स्वास्थ्य बजट पर भी महज 27% ही खर्च कर पायी है। सरकार आम नागरिकों के खून को भी बेचने से गुरैज नहीं कर रही। स्वस्थमंत्री अपने बजट भाषण में साहिबगंज को सुपर स्पेस्लिस्ट अस्पताल बनाने का आश्वासन दिए एक साल हो गए पर अभी तक कोई ठोस पहल नहीं हो पाया।

उन्होंने ने कहा यूपीए गठबंधन की सरकार किसानों से वादा करके आयी थी कि हम दो लाख तक का कर्ज माफ करेंगें। मगर कर्ज माफी के नाम पर किसानों के साथ विश्वासघात किया गया। जबकि की पूर्ववर्ती रघुवर दास की सरकार में कृषि आशीर्वाद योजना के माध्यम से पांच हजार से पच्चीस हजार तक सीधे डीवीटी के माध्यम से किसानों के खाते में जाता था उसको भी ये सरकार बंद करने का काम किया। वही केंद्र सरकार किसानों के हित के लिये किसान सम्मान निधि के मध्यम से साल में छह हजार रुपये सीधे किसानों के खाते में दे रही हैं। उन्होंने ने कहा ये सरकार नमाजनीति को बढ़ावा देते हुए लोकतंत्र के मंदिर में भी नमाज कक्ष आवंटित किया था जहां गांव गरीब किसान राज्य की विकास की चर्चा हो होती हैं वहां भी तुष्टीकरण की राजनीति को पोषित करने का काम किया था । जब भाजपा कार्यकर्ताओं एवं विधायक द्वारा सदन से सड़क तक प्रतिकार किया गया तब ये सरकार झुकी हैं । अभी शीतकालीन सत्र में मॉम लिंचिंग के नाम तुष्टिकरण की राजनीति के लिये एक बिल लायी थी। ये सरकार किसी का भला नहीं चाहती हैं। सिर्फ आदिवासी अल्पसंख्यक के नाम पर सिर्फ राजनिति कर रही हैं,  जबकि इनके सरकार में ये सुरक्षित नहीं हैं।

उन्होंने ने कहा राज्य की कानून व्यवस्था बद से बदतर है। राज्य में दुष्कर्म के मामले सामने आ रहे हैं आपने आप को आदिवासी हितेषी कहने वाली सरकार मे ही आदिवासी प्रत्याड़ित हो रहे हैं। पूर्ववर्ती रघुवर दास की सरकार ने राज्य में जो विकास की जो गाथा लिखने का काम किया उसको भी वर्तमान सरकार ने रोकने का काम किया हैं। ये स्थिति सिर्फ साहिबगंज की हीं नहीं पूरे झारखण्ड का हैं। अनंत ओझ ने कहा गंगा पुल का सौगात ही नहीं दूध डेरी, राजमहल में मॉडल डिग्री कॉलेज की स्थापना से लेकर बिजली का तार गांव गांव तक पहुँचाने, गांवो को शहरों तक सड़क का जाल बिछाने व बिजली ग्रिड का निर्माण कराया जा रहा था उसे भी वर्तमान सरकार ने अवरुद्ध करने का ही कार्य किया है। पूर्ववर्ती सरकार द्वारा किया गया कार्यो का सिर्फ फीता काट रही हैं।

हेमंत सरकार के संरक्षण मे झारखंड की खनिज संपदा पर माफियाओं का राज- कुशमाकर
हेमंत सरकार के संरक्षण मे झारखंड की खनिज संपदा पर माफियाओं का राज- कुशमाकर

जिला महामंत्री कुशमाकर तिवारी ने अवैध खनन का मामला उठाते हुए वर्तमान सरकार के देखरेख मे खनिज संपदा लूटने की बात कही। मौके पर रहे प्रदेश कार्यसमिति सदस्य गणेश तिवारी, धर्मेन्द्र ठाकुर, नगर परिषद अध्यक्ष श्रीनिवास यादव, उपाध्यक्ष रामानंद साह, रेणुका मुर्मु, सुनील सिंह, गरिमा साह, चांदनी देवी, गौतम यादव, विनोद चौधरी, राजेश मंडल, सोनेलाल ठाकुर, पंकज चौधरी, ज्योति शर्मा, चंद्रभान शर्मा, राखी शर्मा, बबलु तिवारी, प्रमोद पांडेय समेत अन्य थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *