राज्यसभा उम्मीदवार को लेकर दिल्ली में कांग्रेस का मंथन

कांग्रेस ने दिल्ली में अविनाश पांडेय की अध्यक्षता में की बैठक
कांग्रेस ने दिल्ली में अविनाश पांडेय की अध्यक्षता में की बैठक

रांची: राज्यसभा चुनाव में एकतरफा कल्पना सोरेन के नाम से कांग्रेस और राजद सकते में आ गया है. कांग्रेस विधायक उमाशंकर अकेला ने कहा कि हमलोग दिल्ली आए हुए हैं. झारखंड में राज्यसभा चुनाव है हमलोग अपने नेता से मिले है. हमलोग चाहते हैं कि उम्मीदवार लोकल हो, अल्पसंख्यक हो इसमें सबसे बेहतर फुरकान अंसारी है. इनको टिकट मिलनी चाहिए.हमने सुना है मुख्यमंत्री अपनी पत्नी को लड़ाना चाहते हैं. लेकिन इसबार कांग्रेस को यह मौका मिलना चाहिए.

कांग्रेस विधायक डॉ इरफान अंसारी ने कहा कि पिछले राज्य सभा चुनाव में आरपीएन सिंह की गलती हुई है कांग्रेस को सेकंड ऑप्शन में उम्मीदवार नहीं देनी चाहिए था.हेंमत सोरेन को भी इस बात को मन में नहीं रखना चाहिए. मुख्यमंत्री को बड़ा दिल दिखाना चाहिए. यह सीट कांग्रेस की है कांग्रेस को मिलनी चाहिए. हमलोगों ने सोनिया गांधी और बेनूगोपाल से समय मांगा है. उनसे भी बात करेंगे. हमने सुना है कि मुख्यमंत्री कल्पना भाभी को चुनाव लड़ाना चाहते हैं.

झारखंड में राज्यसभा चुनाव में प्रत्याशी महागठबंधन के आपसी सहमति से तय होनी चाहिए : राजद

गोड्डा के पूर्व विधायक व झारखंड प्रदेश राष्ट्रीय जनता दल के प्रधान महासचिव संजय प्रसाद यादव ने कहा कि महागठबंधन के सभी दलों के बीच बेहतर तालमेल बना रहना चाहिए. उन्होंने कहा कि राज्य सभा चुनाव में कांग्रेस और झामुमो एवं राजद को आपसी सहमति से उम्मीदवार तय करना चाहिए. राजद के प्रधान महासचिव संजय प्रसाद यादव ने महागठबंधन के सभी वरीय नेताओं से आग्रह पूर्वक मांग किया है कि  संथाल परगना से ही किसी अल्पसंख्यक को प्रत्याशी देना  चाहिये ताकि जीत भी सुनिश्चित हो और आने वाले चुनाव में भी इसका लाभ गठबंधन के सभी घटक दल को मिले. महागठबन्धन के तहत चाहे कांग्रेस के प्रत्याशी हो या झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के संथाल परगना से ही  किसी अल्पसंख्यक को राज्य सभा का प्रत्याशी बनाया जाना चाहिए. ताकि जीत भी सुनिश्चित हो और पूरे प्रदेश में अच्छा संदेश जाएं.

झामुमो प्रत्याशी का नाम आने के बाद कांग्रेस में हरकत

मीडिया में आयी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा अपनी पत्नी को राज्यसभा चुनाव में उतारने की खबर के बाद कांग्रेस आलाकमान हरकत में आया है । दिल्ली में इसको लेकर हलचल तेज हो गयी है । शुक्रवार को कांग्रेस इंचार्ज अविनाश पांडेय ने प्रदेश कांग्रेस के नेताओं के साथ बैठक की । इस बैठक में प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर, सीएलपी लीडर आलमगीर आलम, शहजादा अनवर आदि शामिल थे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.