त्रिपुरा हिंसा के खिलाफ बंद के दौरान महाराष्ट्र के चार शहरों में भड़की सांप्रदायिक हिंसा

अमरावती, नांदेड़, मालेगांव और नासिक में बड़की सांप्रदायिक हिंसा
अमरावती, नांदेड़, मालेगांव और नासिक में भड़की सांप्रदायिक हिंसा

जुम्मे की नमाज के दौरान महाराष्ट्र के अलग-अलग शहरों में त्रिपुरा हिंसा के खिलाफ बंद बुलाई गई। मस्जिदों में नमाज के बाद लोग दुकानें और बाजार बंद कराने सड़कों पर उतरे। दुकानों पर पथराव किया गया, कई दुकानों में लूटपाट और अगजनी हुई। ईइसके बाद दूसरे पक्ष के लोग भी गोलबंद होने लगे। इस तरह महाराष्ट्र के तीन शहर अमरावती, नांदेड़ और मालेगांव सांप्रदायिक हिंसा की आग में जलने लगे।

महाराष्ट्र के कई शहरों में कल मुस्लिम संगठनों ने बंद का ऐलान किया था । इस दौरान कुछ ठिकानों से हिंसा की खबरें आईं । नांदेड़ में हिंसक भीड़ ने कई दुकानों में तोड़फोड़ की और भारी पथराव किया, जिसमें 2 पुलिसकर्मी घायल हो गए । प्रदर्शन के दौरान सरकारी वाहनों को नुकसान पहुंचाया गया। मालेगाव में भी काफी उत्पात मचा । हिंसक भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा । एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि जैयाब चौराहे पर दुकानों के शीशे पर पथराव किया गया ।

मालेगांव में शुक्रवार को हिंसा के लिए लोगों को भड़काता एक मौलवी
मालेगांव में शुक्रवार को हिंसा के लिए लोगों को भड़काता एक मौलवी

स्थानीय लोग प्रशासन पर उठा रहे सवाल

आम लोगों का कहना है कि सबकुछ प्रशासन की जानकारी में हुआ. लोग जब नमाज के लिए मस्जिदों में इकट्ठा हो रहे थे तो पुलिस को उसी वकत् सब पता चल चुका था। मस्जिदों से सांप्रदायिक तकरीरें हुई, भड़काऊ भाषण दिए गये, लेकिन पुलिस मूकदर्शक बनी देखती रही। यहां तक कि जब सैंकड़ों की संख्या में नमाजी दुकानों को बंद कराने निकले तब भी पुलिस खामोश रही। जब दुकानों पर पथराव शुरू हुए तब भी प्रशासन का रवैया शिथिल बना रहा। इसके बाद जब दूसरी ओर से प्रतिक्रिया होने लगी तब अचानक पुलिस सक्रिय हुई और लाठीचार्ज शुरू कर दिया। स्थानीय लोगों का आरोप है कि ऐसा लगता है मानों एक तय सीमा तक हिंसा के लिए छूट देने की इजाजत उपर से दी हुई थी।

नेताओं की बयानबाजी ने भड़काई आग

महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने बताया कि त्रिपुरा में हुई हिंसा के खिलाफ राज्य भर के मुसलमानों ने आज विरोध मार्च निकाला। इस दौरान नांदेड़, मालेगांव, अमरावती और कुछ अन्य जगहों पर पथराव किया गया । पाटिल ने सभी हिंदु और मुसलमानों से शांति बनाए रखने की अपील की है।

नासिक में हुई हिंसा में दो पुलिसवाले भी घायल हुए
नासिक में हुई हिंसा में दो पुलिसवाले भी घायल हुए

नवाब मलिक ने कहा- हिंसा में बीजेपी के कार्यकर्ता शामिल, महाराष्ट्र के गृहमंत्री बोले- बकवास बंद करें नवाब मलिक

महाराष्ट्र सरकार के मंत्री नवाब मलिक ने मीडिया में शुक्रवार को ही बयान दिया कि सांप्रदायिक हिंसा के लिए बीजेपी-आरएसएस जिम्मेवार हैं। उन्होने कहा कि दंगे के दोषियों को किसी भी हालत में नहीं बख्शा जाएगा। वहीं महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटिल ने कहा कि मैंने देवेन्द्र फडनवीस और अमरावती के सांसद से बात की है. इस वक्त हमारा प्रयास ये है कि हिंसा में किसी की जान न जाए। ये वक्त शांति स्थापित करने का है न कि एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाकर राजनीतिक स्कोर प्वाइंट करने का।

भाजपा ने शुक्रवार हई हिंसा के खिलाफ बंद का एलान किया

त्रिपुरा में मुस्लिमों के खिलाफ हिंसा को लेकर अमरावती में प्रदर्शन के दौरान स्थिति नाजुक बनी हुई है। अमरावती में हिंसा और पथराव के विरोध में आज दूसरे पक्ष की तरफ से प्रदर्शन का ऐलान किया गया।

वहीं अमरावती से बीजेपी सांसद नवनीत राणा ने वीडियो के जरिए लोगों से अपील करते हुए कहा,

अमरावती में जो कुछ हुआ, उसकी निंदा करते हैं। मैं नागरिकों और नेताओं से अपील करती हूं कि शांति और सौहार्द्र बनाए रखें। इसके साथ ही मैं विपक्षी पार्टी के मंत्री से इसे राजनीतिक रंग नहीं देने की अपील करती हूं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com