ग्रामीण विकास विभाग के प्रभारी मुख्य इंजीनियर पर करोड़ों रुपये के घोटाले का आरोप, हटाने की मांग

मुख्य सचिव को सौंपी गई बीरेन्द्र राम के घोटालों की फाइल
मुख्य सचिव को सौंपी गई बीरेन्द्र राम के घोटालों की फाइल
रांची । ग्रामीण विकास विभाग के मुख्य प्रभारी अभियंता प्रमुख बीरेंद्र राम को पद से हटाने के लिए सामाजिक कार्यकर्ता पंकज यादव ने मुख्य सचिव को पत्र लिख उनकी आय से अधिक संपत्ति से जुड़ी पीआईएल की प्रति भी संलग्न की है । इसमें एसीबी में चल रहे अभियंता प्रमुख की जांच की स्टेटस रिपोर्ट का उल्लेख भी है ।

आय से अधिक का मामला है दर्ज

पत्र में लिखा गया है कि भ्रष्टाचार के मामले में आरोपी इंजीनियर बीरेंद्र राम को ग्रामीण विकास विभाग का अभियंता प्रमुख बनाया गया है । जिनपर आय से अधिक सम्पति जांच का मामला ना सिर्फ एसीबी में विचारधीन है, बल्कि हाई कोर्ट में भी इन पर आय से अधिक संपत्ति का मामला लंबित है ।

बीरेंद्र राम के अवैध संपत्ति का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान उनके घर से दो करोड़ 45 लाख रुपये नगद पकड़ाए थे । उनकी पत्नी जुगसलाई विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही थीं । बीरेंद्र राम पर आरोप है कि अपनी अवैध कमाई से जमशेदपुर के सोनारी में अपार्टमेंट, मानगो के ग्रीन वाटिका में दो डुप्लेक्स खरीदी है । साथ ही उन्होंने रांची ,पटना तथा सीवान के मैरवा में करोड़ों की अवैध संपत्ति अर्जित की है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.