पारसनाथ से मधुबन होकर गिरिडीह तक रेल के लिए बजट स्वीकृत

पारसनाथ से मधुबन और मधुबन से गिरिडीह तक रेलगाड़ी से सफर का ख्वाब अब धीरे-धीरे हकीकत में बदल रहा है। पिछले कई बजट में उपेक्षित पारसनाथ मधुबन गिरिडीह रेल लाइन के लिए इस बजट में प्रारंभिक फंड की स्वीकृति दे दी गई है।

जैन धर्म का प्रमुख तीर्थ है पारसनाथ, रेल कनेक्टिविटी को मिली मंज़ूरी

गिरिडीह : पारसनाथ से मधुबन और मधुबन से गिरिडीह तक रेलगाड़ी से सफर का ख्वाब अब धीरे-धीरे हकीकत में बदल रहा है। पिछले कई बजट में उपेक्षित पारसनाथ मधुबन गिरिडीह रेल लाइन के लिए इस बजट में प्रारंभिक फंड की स्वीकृति दे दी गई है।

50 करोड़ रुपए का फंड मिला

वित्तीय वर्ष 2022- 23 के बजट में झारखंड की इस महत्वपूर्ण रेल प्रोजेक्ट को 50 करोड़ रुपये का फंड मिला है। केंद्र सरकार से फंड को ग्रीन सिग्नल मिलने के साथ ही अब प्रोजेक्ट को रफ्तार देने की तैयारी शुरू हो गई है।

अब तक मिल रहे थे सिर्फ एक हजार रुपये 
पारसनाथ से मधुबन होकर गिरिडीह तक के रेल प्रोजेक्ट की स्वीकृत लागत 451.45 रुपये करोड़ है। यह लागत उस वक्त तय की गई थी जब चार मार्च 2019 को तत्कालीन गिरिडीह सांसद रविद्र पांडेय ने पारसनाथ स्टेशन पर इस प्रोजेक्ट का शिलान्यास किया था। इसके बाद से दो-तीन बजट में इस प्रोजेक्ट को महज 1000 रुपये की ही स्वीकृति मिल रही थी।

रेलवे के विभागीय अधिकारी बताते हैं कि 1000 रुपये का फंड वैसी रेल परियोजनाओं के लिए स्वीकृत होती हैं, जिन पर अभी काम शुरू नहीं होना है। पर भविष्य में उस परियोजना पर काम होने की संभावना बनी रहेगी और प्रोजेक्ट जीवित रहेगा। पर इस बार 50 करोड़ से थोड़ा कुछ ज्यादा राशि इस परियोजना के लिए स्वीकृत हुई है।

सांसद महेश पोद्दार की पहल रंग लाई 

इस प्रोजेक्ट के लिए राज्यसभा सदस्य महेश पोद्दार काफी प्रयासरत थे। प्रोजेक्ट के लिए फंड उपलब्ध कराने का पत्र रेल मंत्रालय को लिखा था। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से मिलकर भी इस परियोजना के लिए फंड उपलब्ध कराने का आग्रह किया था। जोनल स्तर पर भी प्रयासरत रहे। उनका प्रयास सफल रहा और बजट में फंड को मंजूरी मिली।

49 किलोमीटर लंबी होगी प्रस्तावित रेल लाइन 

पारसनाथ से मधुबन होकर गिरिडीह तक बिछने वाली नई रेल लाइन की लंबाई 49 किलोमीटर होगी। इसे कोडरमा गिरिडीह रेल लाइन से जोड़ा जाएगा। इस रेल मार्ग पर चैनपुर हाल्ट, मधुबन , कुम्हार टोला, लखियाटांड हाल्ट व सलैया हाल्ट बनेंगे। पारसनाथ सिर्फ झारखंड ही नहीं बल्कि देश-विदेश के तीर्थ यात्रियों का प्रसिद्ध स्थल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.