बेरमो पुलिस की त्वरित कार्रवाई अपहृत युवक की बची जान, चार अपराधी गिरफ्तार

गिरफ्तार अपहरणकर्ताओ से बरामद सामान
गिरफ्तार अपहरणकर्ताओ से बरामद सामान

बोकारो । बेरमो पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए अपहृत युवक को बरामद कर लिया तथा चार अपराधी को गिरफ्तार किया है । यदि पुलिस की कार्रवाई में विलंब हो जाती तो अपहृत युवक की जान जा सकती थी । प्राप्त जानकारी के अनुसार सीसीएल के सेवा निवृत्त जय लाल से फिरौती के रूप में मोटी राशि वसूलने के लिए बुधवार को दोपहर में उसके पुत्र धर्मेंद्र का अपहरण कर लिया था । इस बात की जानकारी शाम 5:00 बजे तेनुघाट ओपी को दी गई तथा पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए रात्रि 9:30 बजे उसे बरामद कर लिया

बेरमो अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सतीश चंद्र झा ने दी जानकारी पैसे की वसूली करने के लिए किया गया था अपहरण
बेरमो अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सतीश चंद्र झा ने दी जानकारी पैसे की वसूली करने के लिए किया गया था अपहरण

छप्पर गढ़ा निवासी जय लाल करमाली का पुत्र धर्मेंद्र प्रतिदिन अपनी मोटरसाइकिल से गोमिया  डांस क्लास के लिए जाया करता था। कल दिन मंगलवार को प्रतिदिन की भांति धर्मेंद्र डांस क्लास के लिए निकला। भारत माता मंदिर के पास 4 लोगो  ने इशारा किया,  जिसमें धर्मेंद्र का एक परिचित  था ।

परिचित को देखते हैं धर्मेंद्र मोटरसाइकिल को रोका। मोटरसाइकिल रुकते ही चारों लोगों ने उसे घेरकर मंदिर के नजदीक बने झोपड़ी में ले गए। बताया जाता है कि जाते ही उसके हाथ पर एवं मुंह को बांध दिया गया । वहीं से  धर्मेंद्र के मोबाइल से उसके पिता  जय लाल को फोन लगाकर अपहरण फिरौती की मांग की गई। जय लाल को लगा कि कोई मजाक कर रहा है । वह अपना काम बैंक के निपटाने लगा ।काम निपटाने के बाद पुनः अपने पुत्र के मोबाइल नंबर पर फोन लगाया। परंतु पुत्र का मोबाइल बंद आने लगा ।

जय लाल ने इसकी सूचना तेनुघाट प्रभारी प्रशांत कुमार सिंह को दी । प्रशांत सिंह ने अपने वरीय पदाधिकारी को इसकी सूचना दी तथा मामल दर्ज किया। ओपी प्रभारी के सूचना पर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सतीश चंद्र झा ने पुलिस पदाधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया और धर्मेंद्र के मोबाइल को सर्विलांस पर डाला तथा अपने गुप्तचरों को लगाया। एक गुप्तचर ने सूचना दी कि अपहृत को तेनुघाट दो नंबर में ही रखा गया है ।

गुप्त सूचना पर चौकी प्रभारी प्रशांत कुमार सिंह, अशोक कुमार पासवान, रंजीत सिंह, अहमद अली खान, रामप्रवेश राम, अरविंद सिंह को लेकर गुप्तचर द्वारा बताए गए स्थान को चारों ओर से घेर लिया और अपहृत धर्मेंद्र के साथ चार लोगों को पकड़ा। जिसमें कार्तिक डोम, संजय मरांडी उर्फ सिद्धार्थ ,दीनू मरांडी, सूरज कुमार दास उर्फ छोटू कुमार उर्फ विक्की  को गिरफ्तार किया गया ।गिरफ्तारी के बाद धर्मेंद्र को अनुमंडलीय अस्पताल ले जाया गया जहां उसका उपचार किया गया ।

गिरफ्तार किए गए अपराधियों के पूछताछ के बाद यह बात सामने आई कि अपहृत धर्मेंद्र के पिता सीसीएल से रिटायर किए थे और फिरौती के लिए धर्मेंद्र का अपहरण किया गया था ।अपहरणकर्ता के निशानदेही पर धर्मेंद्र का मोटरसाइकिल जो पाठ पाठ में अलग कर रखा गया था । धर्मेंद्र का बैग, 3 मोबाइल, चाकू, सेलो टेप, रस्सी, लाल रंग का कपड़ा तथा दो मोटरसाइकिल को जप्त किया गया।

अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सतीश चंद्र झा ने बताया कि अपहृत धर्मेंद्र के मुंह में टेप लगाया गया था और बोरी में बंद कर रखा गया था जिस कारण उसकी स्थिति काफी नाजुक बनी हुई थी । पुलिस ने समय रहते उसे बचाने का काम किया । उन्होंने बताया कि कार्तिक डोम का इतिहास पहले भी अपराध कर रहा है और वह हत्या के मामले में भी जेल जा चुका है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WP Twitter Auto Publish Powered By : XYZScripts.com