नीति आयोग के सर्वे में बिहार-झारखंड देश के दो सबसे गरीब राज्य

नीति आयोग ने पहली बार Multidimensional Poverty Index (MPI) जारी किया है । MPI की मानें तो बिहार और झारखंड देश के दो सबसे गरीब राज्य हैं।  तीसरा स्थान पूर्वांचल का है ।

कुपोषण के मामले में भी बिहार-झारखंड सबसे नीचे
कुपोषण के मामले में भी बिहार-झारखंड सबसे नीचे

नीति आयोग के अनुसार बिहार की 51.91 प्रतिशत जनसंख्या गरीब है , वहीं झारखंड की कुल जनसंख्या का 42.16 प्रतिशत गरीब है। बिहार और झारखंड के बाद यूपी- 37.79 % , मध्य प्रदेश- 36.65 % का स्थान है । इसके बाद मेघालय है जहां की 32.65 प्रतिशत आबादी गरीब है ।

केरल और गोवा में सबसे कम गरीबी

नीति आयोग के MPI की मानें तो केरल में महज 0.71 प्रतिशत लोग ही गरीब हैं । इसके बाद गोवा है जिसकी कुल जनसंख्या का 3.76 % लोग ही गरीब हैं। केरल और गोवा के बाद सिक्किम- 3.82%, तमिलनाडू- 4.89% और पंजाब (5.59%)  का स्थान आता है ।

सबसे अधिक कुपोषित लोग भी बिहार और झारखंड में 

नीति आयोग के Multidimensional Poverty Index (MPI) के अनुसार देश में सबसे अधिक कुपोषित लोग भी बिहार-झारखंड में ही हैं।  इसके बाद मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल का स्थान है।

बिहार सरकारी स्कूली शिक्षा, सरकारी स्कूलों में अनुपस्थिति में भी देश के अन्य राज्यों से पीछे है । हैरानी की बात है कि सरकारी स्कूलों में शिक्षा के मामले में झारखंड का प्रदर्शन पूर्वांचल,  बुदेलखंड और छत्तीसगढ़ से भी बेहतर है। लेकिन घरेलू कामों में रसोई गैस और बिजली के इस्तेमाल में झारखंड सिर्फ बिहार से ऊपर है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *