भोक्ता समाज के लोग अलग-अलग जिलों में क्यों फूंक रहे हैं मंत्री सत्यानंद भोक्ता का पुतला ?

श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता को समाज द्रोही तक कहा जा रहा है !
श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता को समाज द्रोही तक कहा जा रहा है !

उज्ज्वल दुनिया संवाददाता/ अजय निराला

हजारीबाग। पहले सिमडेगा, फिर गुमला और अब हजारीबाग…खैरवार भोक्ता समाज विकास संघ के बैनर तले भोक्ता समाज के लोग झारखंड के श्रम मंंत्री सत्यानंद भोक्ता का पुतला फूंक रहे हैं। उन्हे स्वार्थी और समाज विरोधी बताया जा रहा है । इसकी वजह है सत्यानंद भोक्ता का वह बयान जिसमे उन्होंने भोक्ता समाज को एसटी में शामिल किए जाने का विरोध किया था । जबकि एसटी में शामिल होना भोक्ता समाज की पुरानी मांग रही है ।

 

उत्तरी  छोटानागपुर प्रमंडल हजारीबाग अंतर्गत चतरा जिले में खैरवार भोक्ता समाज ने शनिवार को सिमरिया चौक पर श्रम नियोजन एवं कौशल विकास मंत्री सत्यानंद भोक्ता का पुतला फूंका। इस दौरान समाज के लोगों ने उनके विरुद्ध जबरदस्त नारेबाजी की और उन्हें स्वार्थी बताया। यह आंदोलन खैरवार भोक्ता समाज विकास संघ की ओर से चलाया गया।

समाज के सदस्यों ने भोक्ता समाज को अनुसूचित जनजाति में शामिल करने पर हर्ष व्यक्त किया और भारत सरकार के प्रति आभार जताया। संघ के प्रखंड अध्यक्ष छोटू सिंह भोक्ता ने बताया कि भोक्ता समाज को अनुसूचित जाति में शामिल किए जाने पर समाज में जश्न का माहौल है। भारत सरकार ने समाज की एक पुरानी मांग को पूरा कर दिया है।

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा सहित मामले से जुड़े तमाम मंत्रियों के प्रति आभार जताया। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जनजाति में शामिल होने के बाद सदियों से पिछड़े समाज का समग्र विकास होगा।

श्रम मंत्री का बयान इस मामले में स्वार्थी और समाज विरोधी रहा है। इसी कारण उनका पुतला फूंका जा रहा है। इससे पहले भोक्ता समाज ने पचमो मैदान में ढोल बाजे के साथ जश्न मनाया और अबीर-गुलाल उड़ाए। समाज ने पारंपरिक संस्कृति के अनुसार पूजा-अर्चना करते हुए लोक कल्याण की कामना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.