बांग्लादेशी संथाली बेटियों से विवाह कर डेमोग्राफी ही नहीं बदल रहे, पंचायती राज व्यवस्था पर कर रहे हैं कब्जा- अनंत ओझा

बांग्लादेशी घुसपैठियों को अविलंब चिन्हित करने का काम करे सरकार
बांग्लादेशी घुसपैठियों को अविलंब चिन्हित करने का काम करे सरकार

नीरज कुमार जैन/ ब्यूरो

रांची। विस मे कटौती प्रस्ताव पर बोलते हुए भाजपा विधायक अनंत ओझा ने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सदन मे कहा था कि बांग्लादेशी घुसपैठियों को रोजगार देने के लिए नहीं बैठे हैं। लेकिन स्थिति यह हैं कि रोजगार पर बांग्लादेशी घुसपैठि कब्जा कर रहे हैं। चाहे तो सरकार इस विषय को जांच करा लें।

बंगलादेशी यहां की संथाली बेटियों के साथ विवाह कर यहाँ के डेमोग्राफिक को ही नहीं बदल रहे, पंचायती राज व्यवस्था पर भी कब्जा कर रहे हैं। उन्होंने ने आंकड़ो के तहत कहा कि 1951 में जो भारत की जनगणना हुई थी, झारखंड के जो जिले हैं वहाँ हिन्दू आबादी की सभी जातियों को मिलाकर 87.79 प्रतिशत था। वही मुस्लिमों आबादी 8.9 थी, यही 2011 आते आते हिन्दू आबादी का प्रतिशत घटकर 81.17% हो जाता हैं वही मुस्लिमों का आबादी बढ़कर 14.35 प्रतिशत हो गया।

उन्होंने ने कहा ये इसलिए हो रहा झारखंड के जो सीमावर्ती जिले हैं जो झारखंड और बंगाल से जुड़े हुए हैं । उस सीमावर्ती क्षेत्र से सुयोजित षड्यंत्र के तहत बांग्लादेशी घुसपैठियों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। साहिबगंज व पाकुड़ जिला इस बंगलादेशी घुसपैठियों से सब से ज्यादा प्रभावित हैं। उन्होंने ने कहा 1951 कि जनगणना व मतदाता सूची को आधार मानकर बांग्लादेशी घुसपैठियों को चिन्हित करने का काम शीघ्र प्रारम्भ किया जाय।

Leave a Reply

Your email address will not be published.