बरही में जुलूस और कैंडल मार्च पर रोक, रूपेश पांडेय के घर के आसपास 600 पुलिसकर्मी तैनात

किसी भी तरह के बाहरी आदमी को गांव में आने-जाने पर रोक
किसी भी तरह के बाहरी आदमी को गांव में आने-जाने पर रोक

उज्ज्वल दुनिया संवाददाता/ अजय निराला

हजारीबाग। जिले के बरही स्थित दुलमाहा गांव में घटित रूपेश कुमार पांडे हत्याकांड और बजरंग बली की प्रतिमा विखंडित व एक समुदाय विशेष का झंडा क्षतिग्रस्त मामले को लेकर रविवार संध्या डीसी आदित्य कुमार आनंद एवं एसपी मनोज रतन चौथे ने प्रेस वार्ता की।

मौके पर डीसी ने कहा कि बरही में किसी भी तरह के जुलूस व कैंडल मार्च आदि पर पहले से ही प्रतिबंध लगा दिया गया है। किंतु फिर भी कुछ लोग चार से अधिक लोग एकत्रित हो रहे हैं व जुलूस निकाल रहे हैं। उस पर सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। शादी और अंतिम संस्कार कार्यक्रम को छोड़ कर किसी भी कार्यक्रम में लोगों को इकट्ठा होने नहीं दिया जाएगा।

चार से अधिक लोग एक जगह एकत्रित नहीं होंगे। जो भी लोग धारा 144 का उल्लंघन करेंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। वहीं कहा कि लोगों से लगातार अपील कर रहे हैं कि शांति व्यवस्था लोग बनाकर रखें। किंतु रूपेश हत्याकांड में जो लगातार नए-नए मनगढ़ंत तथ्यों को सामने लाया जा रहा है और झूठी अफवाहें फैलाई जा रही हैं वह कहीं से भी सही नहीं है। यह स्पष्ट है कि कुछ शरारती तत्व जानबूझकर ऐसा कर रहे हैं। कुछ लोग बरही की शांति व्यवस्था को भंग करना चाहते हैं, किन्तु ऐसा होने नहीं दिया जाएगा।  जरूरत पड़ी तो पुलिस बल और अधिक तैनात की जाएगी।

उन्होंने भरोसा दिया कि बरही में शांति व्यवस्था को भंग होने नहीं दिया जाएगा। इसके लिए जो भी आवश्यक कार्रवाई करनी पड़ी किया जाएगा। आज के बाद से और भी अधिक सख्ती बरती जाएगी। एसपी ने कहा कि पिछले छह फरवरी को जो रूपेश पांडे हत्याकांड हुई, उस संबंध में प्राथमिकी दर्ज कर सभी आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। वहीं दुलमाहा व करियातपुर में जो वाहनों की तोड़फोड़ व आगजनी की घटना हुई इस संबंध में भी प्राथमिकी दर्ज हुई है।

अभी तक रूपेश हत्याकांड मामले में अलग-अलग चार प्राथमिकी दर्ज हो चुकी है। चारों दर्ज प्राथमिकी की जांच एसआईटी की ओर से की जा रही है। एसआईटी टीम में सात पुलिस पदाधिकारी शामिल हैं। इसका नेतृत्व एसडीपीओ बरही कर रहे हैं। दर्ज सभी मामलों का पर्यवेक्षक बड़कागांव डीएसपी अमित कुमार सिंह करेंगे।

उन्होंने कहा कि इंटरनेट मीडिया पर झूठी अफवाह फैलाने वालों को उन्होंने पहले ही सचेत किया था, उसके बावजूद कुछ लोगों की ओर से बरही के नाम पर झूठा वीडियो वायरल किया गया, जबकि वायरल वीडियो यूपी और दूसरे देश का था। कुछ लोग झूठा वीडियो वायरल कर लोगों की भावना भड़काने का काम किया है। उसके बावजूद स्थिति को प्रशासन नियंत्रित रखा।

शनिवार को एक छोटी सी घटना हुई जिसके बाद रविवार को एक समुदाय के लोग सड़क पर आए, जिसके बाद दूसरे समुदाय के लोग भी सड़क पर आए।

बरही प्रखंड में 144 धारा लागू है फिर भी लोग सड़क पर एकत्रित हुए और सरकारी आदेश का उल्लंघन किया। इसमें जो भी लोग शामिल थे, उनके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा और सख्ती से कार्रवाई की जाएगी।

बरही में उपद्रवियों पर नजर रखने एवं शांति और विधि व्यवस्था बनाए रखने को लेकर बरही में अलग-अलग कंपनियों के 600 जवानों को तैनात कर दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.