2016 स्थापना दिवस समारोह की जांच करेगी एसीबी, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी

महज चंद घंटे के परफॉर्मेंस के लिए सुनिधि चौहान को दिए गये थे 57 लाख रुपये
महज चंद घंटे के परफॉर्मेंस के लिए सुनिधि चौहान को दिए गये थे 57 लाख रुपये

 

रांची । झारखंड राज्य स्थापना दिवस, 2016 (13 -15 नवंबर) के अवसर पर आयोजित मुख्य समारोह में गायिका सुनिधि चौहान के कार्यक्रम और विभिन्न विद्यालयों में बच्चों के बीच टी -शर्ट और मिठाई तथा टॉफी वितरण में बरती गई अनियमितता की जांच भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) करेगी । मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने इस कार्यक्रम में अनियमितता की मिली शिकायतों के मद्देनजर एसीबी जांच के प्रस्ताव को स्वीकृति दे दी है। साल 2016 के राज्य स्थापना दिवस समारोह के आयोजन में हुई अनियमितता को लेकर झारखंड उच्च न्यायालय में एक जनहित याचिका सुनवाई के लिए विचाराधीन है ।

सरयू राय ने उठाया था मामला

रघुवर सरकार में मंत्री रहे व जमशेदपुर पूर्वी से निर्दलीय विधायक सरयू राय ने आरोप लगाया था कि वर्ष 2016 के स्थापना दिवस के मौके पर हुए खर्च में भारी वित्तीय अनियमितता हुई है़ । स्कूली बच्चों के बीच प्रभात फेरी में पांच करोड़ की टी-शर्ट और 35 लाख रुपये की टॉफी की खरीद हुई थी़ । सीएम हेमंत सोरेन को लिखे पत्र में सरयू राय ने कहा था कि एक दिन के कार्यक्रम के लिए 15-20 करोड़ रुपये से अधिक की राशि खर्च करने और इसके लिए एजेंसियों का चयन मनोनयन के आधार पर करने के पीछे की साजिश की जांच जरूरी है़। उन्होने लिखा था कि स्थापना दिवस 2016 के अवसर पर केवल टॉफी और टी-शर्ट की खरीद व आपूर्ति में ही भ्रष्टाचार नहीं हुआ है़ दूसरे मदों में भी घपला हुआ है़ । सुनिधि चौहान के सांस्कृतिक कार्यक्रम पर करीब 57 लाख रुपये से अधिक का व्यय सरकार द्वारा दिखाया गया है ।

रघुवर दास ने कहा-किसी भी जांच के लिए तैयार

एसीबी से जांच के आदेश के बाद पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे। हमने 5 साल ईमानदार सरकार और इमानदार प्रशासन दिया है। इसके बावजूद अगर किसी को लगता है कि कोई गड़बड़ी हुई है, तो किसी भी जांच का मैं स्वागत करता हूं। सांच को आंच क्या। इस सरकार ने विधानसभा में स्वयं स्वीकार किया था कि इस मामले में किसी प्रकार की गड़बड़ी नहीं हुई है। अभी हाल के दिनों में ही मैंने सरकार पर कुछ गंभीर सवाल उठाए थे, शायद निशाना सही जगह लगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.