राज्यसभा में आम आदमी पार्टी के सांसदों की संख्या कांग्रेस से ज्यादा हुई

1990 के बाद भाजपा पहली ऐसी पार्टी बनी जिसके राज्यसभा सदस्यों की संख्या 100 के पार
1990 के बाद भाजपा पहली ऐसी पार्टी बनी जिसके राज्यसभा सदस्यों की संख्या 100 के पार

नई दिल्ली। राज्यसभा में भाजपा ने अपनी शक्ति और बढ़ा ली है। राज्यसभा में पहली बार भाजपा की सदस्य संख्या 100 के पार पहुंची है, वहीं पहली बार आम आदमी पार्टी (आप) ने कांग्रेस को पीछे छोड़ा है। पंजाब की पांच राज्यसभा सीटें जीतने के बाद आप की सदस्य संख्या 8 वहीं हो गयी है, वहीं कांग्रेस के सांसद 5 से भी कम हो गये हैं।

1988 के बाद राज्यसभा में भाजपा पहली बार सबसे बड़ी पार्टी बन गयी है। गुरुवार को हुए संसद के उच्च सदन के चुनावों के बाद, भाजपा ने अपनी संख्या 101 पहुंचा दी है। पूर्वोत्तर ने भाजपा के सीटों में इजाफा किया है। भाजपा ने तीन पूर्वोत्तर राज्यों असम, त्रिपुरा और नगालैंड से राज्यसभा की चार सीटें जीतीं। भाजपा की गठबंधन सहयोगी यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (यूपीपीएल) ने असम से एक राज्यसभा सीट जीती। राज्यसभा में बीजेपी के 100 का आंकड़ा पार करने के साथ ही विपक्ष इस साल अगस्त में होने वाले उपराष्ट्रपति चुनाव की दौड़ से बाहर हो गया है।

पंजाब विधानसभा चुनाव में प्रचंड जीत के बाद आप ने राज्य की सभी पांच सीटों पर जीत हासिल की। अब आप की संख्या उच्च सदन में आठ सीटों तक बढ़ गयी हैं। राज्यसभा चुनाव के हालिया दौर में कांग्रेस की ताकत पांच सीटों से कम हो गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.