भाजपा विधायक Samri Lal को हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत, जाति प्रमाण पत्र रद्द करने के आदेश को किया निरस्त | Ujjwal Duniya

भाजपा के विधायक समरी लाल (Samri Lal) को झारखंड हाई कोर्ट (Jharkhand High Court) से बड़ी राहत मिली है। जस्टिस राजेश शंकर की अदालत ने समरी लाल (Samri Lal) के जाति प्रमाण पत्र को रद्द करने के आदेश को निरस्त कर दिया है। सुनवाई के बाद अदालत ने इस मामले को वापस कास्ट स्क्रूटनी कमिटी के समक्ष सुनवाई के लिए भेज दिया है। समरी लाल की ओर से अधिवक्ता कुमार हर्ष  ने पक्ष रखा. सुरेश बैठा की ओर से अधिवक्ता अधिवक्ता इंद्रजीत सिन्हा,  विभास सिन्हा और अविनाश अखौरी ने कोर्ट के समक्ष पक्ष रखा।  

अदालत ने कहा है कि समिति एक विजिलेंस कमेटी का गठन करेगी, जो इस मामले की जांच करेगी। विजिलेंस कमेटी की जांच में अगर कुछ तथ्य सामने आते हैं तो ही जाति छानबीन कमिटी इस मामले में निर्णय लेगी।

गौरतलब है कि एक अप्रैल 2022 को जाति छानबीन समिति ने समरी लाल(Samri Lal) के जाति प्रमाण पत्र को रद्द कर दिया था। जिसके खिलाफ समरी लाल की ओर से हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई थी। दाखिल याचिका पर सभी पक्षों को सुनने के बाद अदालत ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

क्या था मामला 

बता दें कि कांग्रेस के प्रत्याशी सुरेश बैठा ने समरी लाल (Samri Lal) को राजस्थान का निवासी बताते हुए उनका जाति प्रमाण पत्र रद्द करने के लिये आवेदन दिया था। कांग्रेस प्रत्याशी के इस आवेदन के बाद राज्य जाति छानबीन कमिटी ने समरी लाल के प्रमाण पत्र को रद्द करने का आदेश दिया था।

%d bloggers like this: